गोद लिए विद्यालयों के बच्चों को स्वास्थ्य परीक्षण करायें अधिकारीः डीएम

- राष्ट्रीय फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम की समीक्षा बैठक मंे डीएम ने दिए निर्देश

बांदा। राष्ट्रीय फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम 2021, मास ड्रग एडमिनिस्टेªशन (एम0डी0ए0) 2021, अर्न्तविभागीय समन्वय समिति तथा जिला स्वास्थ्य समिति (शासी निकाय) की बैठक जिलाधिकारी अनुराग पटेल की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। जिसमें विगत बैठक में दिये गये दिये गये दिशा-निर्देशों की समीक्षा की गयी। आयुष्मान भारत, मातृ मृत्यु सर्विलान्स रिपोर्ट, आर0बी0एस0के0, जननी सुरक्षा योजना, आशा चयन तथा आशा भुगतान, प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान, प्रधानमंत्री मातृत्व वन्दना योजना, पुरूष नसबन्दी पखवाडा, आर0सी0एच0 पोर्टल की समीक्षा, राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण आदि योजनाओं की समीक्षा की गयी।

तहसील स्तरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में एच0एम0आई0एस0 सल्यूशन लागू किये जाने हेतु कम्प्यूटर एवं अन्य सामाग्री क्रय किये जाने के सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि हर एजेण्डे में सर्कुलर अवश्य लगाया जाए। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अन्तर्गत गोल्डन कार्ड बनने की प्रगति बहुत खराब पाये जाने पर जिलाधिकारी द्वारा नाराजगी व्यक्त की गयी तथा निर्देशित किया गया कि लक्ष्य के सापेक्ष कार्य समय से पूर्ण होना चाहिए।

 समस्त प्रभारी चिकित्साधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि जनपद में जो 101 अधिकारियों द्वारा 202 गॉव गोद लिये गये हैं उन सभी स्कूलों के बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण अवश्य करा लिया जाए। जननी सुरक्षा योजना के अन्तर्गत जिनके भुगतान अवशेष हैं उन्हें शीघ्र भुगतान किया जाये। ग्रामीण क्षेत्रों में जो आशा का चयन होना है उनका नियमानुसार चयन किया जाए। 

प्रधानमंत्री मातृत्व वन्दना योजना की समीक्षा करते हुए लाभार्थी को प्राप्त होने वाली प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय किश्त की प्रोत्साहन राशि समय से दी जाए। पुरूष नसबन्दी पखवाडा 22 नवम्बर से 04 दिसम्बर, 2021 तक चलाया जा रहा है जिसका प्रचार-प्रसार बैनर, पोस्टर तथा पेन्टिंग के माध्यम से सार्वजनिक स्थलों पर कराया जाए जिससे ज्यादा से ज्यादा जागरूकता पुरूषों में आये। 

पुरूष नसबन्दी अपनाये और सुखी परिवार का आधार बनाये। इसके बाद नियमित गर्भवती महिलाओं को टी0टी0 का टीका लगाया जाये। राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि लारवा निरोधक दवा का छिडकाव कराया जाए। फाइलेरिया नाइट सर्वे भी कराया जाए। डेंगू के केशों की स्थिति पर विशेष ध्यान रखा जाए और लगातार सेनेटाइजेशन और फागिंग का कार्य कराया जाए।

जिलाधिकारी अनुराग पटेल ने समस्त प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि कोविड टीकाकरण घर-घर जाकर वैक्सीनेशन करवायें और पैरासिटामॉल दवा भी उपलब्ध करायी जाए जिससे किसी को किसी भी प्रकार की समस्या न आये। 

यह भी निर्देशित किया कि जनपद में 101 अधिकारियों द्वारा गोद लिये गये 202 ऑगनबाडी केन्द्रों पर स्वास्थ्य जांच सम्बन्धित सारे उपकरण उपलब्ध होने चाहिए अन्यथा कार्यवाही की जायेगी। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी वेद प्रकाश मौर्य, उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी आर0एन0प्रसाद, जिला अस्पताल महिला की अधीक्षिका, जिला अस्पताल पुरूष के अधीक्षक एस0एन0मिश्रा, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी संजीव बघेल, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी रामपाल, जिला विद्यालय निरीक्षक विनोद कुमार सिंह सहित सम्बन्धित विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।