माँ पर शेर

                      माँ पर शेर

दो मात्राओं की बाहों में एक इकलौता अक्षर है,

यह अल्फ़ाज़ कुछ और नहीं, बस दूजा रूप ईश्वर है।


                     नमक पर शेर

नमक बहुतों के लिए दिल-ओ-जान होता है,

कोई ज़ख्मो से भी पूछ के देखे, नमक क्या होता है ।


                      जुबां पर शेर

अच्छी जुबां का एक ही असूल,

ज़रूरत से ज़्यादा न कांटे, न फूल ।


                    नसीब पर शेर

एक कदम पर खुशियाँ हैं, पर होतीं नहीं नसीब,

बगल में है नदिया, प्यासे को पानी नहीं नसीब,

नसीब न दे इजाज़त, तो कोई सुख नहीं सकता भोग,

प्याला छूट जाए आकर भी होठों के करीब ।


                                         रचयिता -

                                         सलोनी चावला