गोवर्धन पूजा को लेकर बरसों पुराना विवाद आपसी सुलह समझौते के बाद समाप्त

विवाद सुलझाने में थाना अध्यक्ष की भूमिका की ग्रामीण जमकर कर रहे हैं तारीफ।        

मऊ जनपद के कोपागंज थाना अध्यक्ष की पहल पर इटौरा डोरी पुर में प्रत्येक वर्ष होने वाले गोवर्धन पूजा के दौरान दोनों पक्षों के विवाद रविवार को आपसी सुलह समझौते के तहत हो गया। गौरतलब है कि इटौरा डोरी पुर में प्रत्येक वर्ष विवादित स्थल पर गोवर्धन पूजा को लेकर दो पक्ष आमने-सामने होने के बाद पुलिस प्रशासन और पुलिस जवानों को कड़ी मशक्कत करनी पड़ती थी एक पक्ष श्री राम एडवोकेट कोर्ट में मामला विचाराधीन होने का हवाला देते हुए विवादित स्थल पर पूजा ना कराने के जिद पर अड़ा रहता था तो दूसरा पक्ष परसों से विवादित स्थल पर ही पूजा करने का हवाला देते हुए पूजा करने के जिद पर अड़ा रहता था दोनों पक्षों के तनाव को देखते हुए पुलिस प्रशासन के लिए भी प्रत्येक वर्ष गोवर्धन पूजा संपन्न कराने के लिए चुनौती बना था बावजूद पुलिस प्रशासन विवादित स्थल पर ही आनन-फानन मैं गोवर्धन पूजा संपन्न कराता था। लेकिन विवाद के कोई हल न होने से अगले वर्ष गोवर्धन पूजा को लेकर दोनों पक्षों के बीच तनाव की स्थिति बनी रहती थी हालांकि प्रशासनिक अधिकारियों ने दोनों पक्षों के बीच सहमति बनाकर दीपा सुलझाने के लिए कई बार कोशिश की गई लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला बीते दिनों गोवर्धन पूजा के दौरान भी दोनों पक्षों के बीच विवाद और तनाव को देखते हुए पुलिस जवानों को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी। जिसके बाद थानाध्यक्ष हरिराम मौर्या ने दोनों पक्षों को विवाद सुलझाने के आश्वासन देकर किसी तरह पूजा सम्पन्न कराया। जिसके बाद विवाद सुलझाने के लिए लगातार दोनों पक्ष प्रयासरत रहे। आखिरकार रविवार को थाने में थानाध्यक्ष हरिराम मौर्या के नेतृत्व में दोनों पक्षों और गांव के प्रधान प्रतिनिधि गोबिंद राजभर, संभ्रांत लोगों  के बीच विवाद सुलझाने के लिए पहल की गई जिसके बाद घंटों तक दोनों पक्ष इस नतीजे पर पहुंचे कि विवादित स्थल पर आने वाले वर्षों में पूजा नहीं होंगे। लिखित सहमति के तहत तय हुए कि गोवर्धन पूजा अब गांव के शिव मंदिर पर संपन्न कराए जाएंगे। बहरहाल वर्षों से चले आ रहे गोवर्धन पूजा को लेकर दोनों पक्षों के बीच विवाद सुलह समझौते से समाप्त होने से ग्रामीणों काफी प्रसन्न हैं। ग्रामीण विवाद सुलझाने में थानाध्यक्ष की भूमिका की जमकर तारीफ कर रहे हैं।