लगातार बढ़ती हुई समस्याओं का एकमात्र हल पृथक पश्चिम प्रदेश का निर्माण: भगत सिंह वर्मा

सहारनपुर। पेपर मिल रोड पर पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा कार्यालय पर बैठक को संबोधित करते हुए पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा ने कहा कि उत्तर प्रदेश बहुत बड़ा राज्य है जिसका विभाजन जरूरी है। उत्तर प्रदेश में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 26 जिलों की भारी उपेक्षा की जा रही है यहां शिक्षा में चिकित्सा नाम मात्र को है जबकि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 26 जिले प्रदेश सरकार को 80% राजस्व दे रहे हैं जबकि यहां के विकास कार्य पर मात्र 19% धन खर्च किया जा रहा है जो यहां की आठ करोड़ जनता के लिए सरासर अन्याय है। बैठक की अध्यक्षता करते हुए पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष राजेंद्र चौधरी ने पृथक पश्चिम प्रदेश के निर्माण को सबसे जरूरी बताया और कहा कि पृथक पश्चिम प्रदेश में किसानों मजदूरों व युवाओं की समस्याएं स्वत ही हल हो जाएंगी। बैठक का संचालन करते हुए प्रदेश महामंत्री आसिम मलिक ने कहा कि उत्तर प्रदेश के विभाजन की मांग आजादी से पहले से चल रही हैं जो आज समय की सबसे बड़ी आवश्यकता है। आसिम मलिक ने युवा शक्ति से आगे आकर पृथक पश्चिम प्रदेश निर्माण में भागीदारी करने का आह्वान किया। बैठक में वीरेंद्र सिंह बिल्लू नीरज सैनी प्रधान नैन सिंह सैनी रविंद्र प्रधान अजीत सिंह एडवोकेट संदीप एडवोकेट सुधीर चौधरी संजय चौधरी केसर आलम मोहम्मद राशिद हाजी साजिद यासीन त्यागी अफसर अली महबूब हसन अमित कुमार रविंदर गिल हरपाल सिंह जोगेंद्र सिंह रुचिन कुमार सुमित वर्मा विकास गुर्जर ऋषि पाल गुर्जर नीरपाल सिंह मिरगपुर यशपाल त्यागी धन प्रकाश त्यागी सुभाष त्यागी ने भाग लिया।