बढ़ता जा रहा Zee विवाद, निवेशकों के खिलाफ कंपनी ने किया कोर्ट का रुख

नई दिल्ली : जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड और कंपनी के निवेशकों के बीच का विवाद बढ़ता जा रहा है। दरअसल, जी एंटरटेनमेंट ने अपने निवेशक- इनवेस्को और ओएफआई ग्लोबल चाइना फंड एलएलसी के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट का रुख किया है। इसके साथ ही जी एंटरटेनमेंट ने बताया कि 1 अक्टूबर 2021 को हुई अपनी बैठक में, बोर्ड इस निष्कर्ष पर पहुंचा है कि निवेशकों की ईजीएम बुलाने की मांग अमान्य और अवैध है। 

क्या है मामला: असल में जी एंटरटेनमेंट के निवेशक कंपनी के प्रबंध निदेशक पुनीत गोयनका को हटाने सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के लिए एक असाधारण आम बैठक (ईजीएम) बुलाना चाहते हैं। बीते शुक्रवार को हुई एक बैठक में, कंपनी के बोर्ड ने इस मांग को खारिज कर दिया और उसे अवैध करार दिया।

इससे पहले, एनसीएलटी की मुंबई पीठ ने बृहस्पतिवार को जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज को विभिन्न मुद्दों पर चर्चा के लिए ईजीएम बुलाने के इनवेस्को के अनुरोध पर विचार करने के लिए बोर्ड की बैठक आयोजित करने का निर्देश दिया था। इसी आदेश के बाद शुक्रवार को बोर्ड की बैठक हुई थी।

6 निदेशकों की नियुक्ति: अमेरिकी कंपनी इनवेस्को जी एंटरटेनमेंट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक पुनीत गोयनका के साथ-साथ दो अन्य निदेशकों को हटाने के अलावा छह नए निदेशकों की नियुक्ति की भी मांग कर रहा है। आपको बता दें कि इनवेस्को का ओएफआई ग्लोबल चाइना फंड के साथ जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज में 17.88 प्रतिशत हिस्सेदारी है।