एयरपोर्ट पर उतरते ही राहुल गांधी समेत कांग्रेसी धरने पर बैठे

लखीमपुर खीरी जाने के लिए आखिरकार राहुल की जिद के आगे झुका प्रशासन

लखनऊ। लखीमपुर जाने की अनुमति मिलने के बाद लखनऊ एयरपोर्ट में राहुल गांधी और प्रशासन के बीच तनातनी देखने को मिली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी अपनी गाड़ी से ही जाने की जिद पर अड़ गए जबकि पुलिस उन्हें अपनी गाड़ी से ले जाने की बात कहने लगी। इस बात से नाराज होकर राहुल गांधी दूसरे कांग्रेस नेताओं के साथ एयरपोर्ट पर ही धरने पर बैठ गए थे। आखिरकार राहुल की जिद के आगे प्रशासन को झुकना पड़ा। 

राहुल अपनी गाड़ी से ही एयरपोर्ट से रवाना हुए। लखनऊ एयरपोर्ट पर उतरते ही राहुल गांधी समेत कांग्रेसी नेताओं को पुलिस अपने वाहन से लखीमपुर खीरी ले जाने के लिए कहने लगी। इस पर राहुल अधिकारियों से कहा, मुझे नियम बताइए कि मैं अपनी गाड़ी में क्यों नहीं जा सकता। अफसर नहीं माने तो राहुल धरने पर बैठ गए थे। राहुल गांधी के साथ चरणजीत सिंह चन्नी, भूपेश बघेल और केसी वेणुगोपाल हैं। राहुल गांधी ने कहा, हम अपनी कार से (लखीमपुर खीरी) जाना चाहते हैं लेकिन वे (पुलिस) हमें अपनी गाड़ी से ले जाने को कह रहे हैं। 

मैं उनसे अपने व्यक्तिगत वाहन से ही जाने का आग्रह किया। वे कुछ योजना बना रहे हैं। इससे पहले योगी सरकार ने राहुल और प्रियंका गांधी समेत 5 कांग्रेस नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने की इजाजत दी थी। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, एयरपोर्ट पर कुछ बातों को लेकर विवाद हुआ। प्रशासन ने राहुल को लखीमपुर खीरी ले जाने के लिए रूट और गाड़ियां तय की हुई थीं लेकिन उन्होंने साफ इनकार कर दिया। इसके अलावा राहुल को दूसरे गेट से निकालने की योजना था लेकिन उन्होंने कहा कि वह मेन गेट से ही जाएंगे। 

प्रशासन राहुल को सीधे लखीमपुर खीरी ले जाना चाहता था लेकिन राहुल ने कहा कि वह पहले सीतापुर जाएंगे, वहां से प्रियंका को लेकर ही खीरी जाएंगे। आखिरकार प्रशासन को राहुल की सारी बातें माननी पड़ी। लखीमपुर खीरी हिंसा में बीजेपी नेता का नाम आने और विपक्ष के हंगामे के बाद योगी सरकार बैकफुट पर आ गई है। यूपी सरकार ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को हिरासत से रिहा करने के साथ ही उन पर लगे सभी चार्ज हटा लिए हैं।