आखिर क्यों नही हो रही प्राधिकरण के दलाल शरद पर कार्यवाही हुई

सहारनपुर। एक तरफ तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने काला धन एकत्रित करने वालों पर कड़ा शिकंजा कसकर उनकी सम्पत्तियों को कुर्क कर करोड़ों रूपये का काला धन एकत्रित कर देश की आर्थिक स्थिति को मजबूत करने का काम किया है। लेकिन सहारनपुर विकास प्राधिकरण में अधिकारियों के साथ मिलीभगत कर दलाली कर करोड़ों की अवैध सम्पत्ति अर्जित करने वाले के खिलाफ अभी तक शासन-प्रशासन द्वारा कोई कार्यवाही की गयी है। 

मौहल्ला पवन विहार निवासी विनय कुमार छाबडा पुत्र स्व.राम लाल छाबडा ने आज यहां कोर्ट रोड स्थित एक होटल में पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि सहारनपुर विकास प्राधिकरण में दलाली का कार्य करने वाले शरद कुमार द्वारा विभाग को लगभग 50 करोड़ की हानि पहुंचायी गयी है। उक्त शरद कुमार शरद अधिकारियों व वीसी से सांठगांठ कर महानगर में कराये गये अवैध निर्माणो में मोटी रकम लेता है और अपनी दबंगई दिखाता है। उक्त शरद कुमार ने अपने व अपनी पत्नि व रिश्तेदारों के नाम से भी इस अवैध कमाई से अवैध तरीके पांच मकान हिम्मत नगर के आसपास व एक फ्लैट जीरकपुर चण्डीगढ में लिया हुआ है। इसके अलावा गांव पैरागपुर में खेती की जमीन खरीदी है। यही नहीं इसने अपनी पत्नि संगीता देवी के नाम से भी करोड़ों रूपये के कई प्लाट इसी काली कमाई से खरीदे हुए हैं। उक्त शरद कुमार द्वारा आज भी नगर में हो रहे निर्माणों में जेई व विभाग के अधिकारियों से सैटिंग गेटिंग कर लाखों रूपये महीना काली कमाई कर रहा है। 

उन्होंने बताया कि ऐसी ही मुहिम चलाकर सरकार व पुलिस प्रशासन ऐसे दलालों की काली कमाई को जब्त करे, क्योंकि शरद कुमार जैसे दलालों ने विकास प्राधिकरण से सांठगांठ कर कई करोड़ की सम्पत्ति अर्जित की गयी है जिससे सरकार को कई करोड़ का रेवेन्यू का नुकसान पहुंचाया गया है। यही नहीं उक्त शरद कुमार पत्रकारों के नाम का ठेका लेकर विकास प्राधिकरण से मोटी कमाई करता है ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ भी कार्यवाही होनी चाहिए। 

पीडित द्वारा इस मामले की शिकायत उच्चाधिकारियों से भी की गयी है, लेकिन आज तक कोई सुनवाई नहीं की गयी है। पीडित ने कमिश्नर सहारनपुर मण्डल से इस मामले की उच्च स्तरीय जांच कराकर उक्त दलाल शरद कुमार शरद के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की है साथ ही नगर में हुए अवैध निर्माणों जिनकी जांच लोकायुक्त महोदय द्वारा करवायी जा चुकी है, उन पत्रावलियों पर निर्माणकर्ता को नोटिस भेजकर मानचित्र समन कर करोड़ों रूपये विभाग को प्राप्त कराने की कार्यवाही की मांग की है तथा सविप्रा दलाल शरद कुमार द्वारा अर्जित की गयी काली कमाई की जांच कराकर इसकी अवैध सम्पत्तियों को जब्त करने की मांग की है। 

दूसरी ओर पीडित रविन्द्र कुमार पुत्र महीपाल सिंह निवासी ग्राम बोन्सा थाना सरसावा जनपद सहारनपुर ने पत्रकारों को बताया कि उसके द्वारा पेपर मिल रोड, सहारनपुर में सीतापुरी के नाम से एक कालोनी काटी गयी थी। कालोनी से कुछ दूरी पर उसका एक प्लाट 84.25 वर्गगज का था, जिसको उसके द्वारा नैनसिंह को बेच दिया गया था। नैन सिंह उक्त प्लाट मोनू कुमार को बेच दिया था लेकिन भूमाफिया शरद कुमार शरद द्वारा इसी प्लाट को धोखे से बदनियती रखते हुए उक्त प्लाट का फर्जी बैनामा किसी अन्य के हक में कर दिया।

 उक्त शरद कुमार एकधोखेबाज व दबंग प्रवृत्ति का व्यक्ति है जो इसी प्रकार लोगों को अपने चंगुल में फंसाकर उनकी सम्पत्ति हजम करने का काम करता है और लोगों को धमकी देता है कि उसकी पुलिस प्रशासन में अच्छी पकड़ है, उसका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता। रविन्द्र कुमार द्वारा यह भी बताया गया कि उसने विपक्षी संगीता देवी पत्नी शरद कुमार के खिलाफ माननीय न्यायालय में वाद दायर किया हुआ है लेकिन भूमाफिया शरद कुमार येन-केन प्रकारेण मामले को उलझाकर रखना चाहता है। पीडित ने मामले की जांच कराकर दोषी भूमाफिया के खिलाफ सख्त कानूनी कार्यवाही करने की मांग की है।