भजन करं मैं मंदिर में

भजन करूं मैं मंदिर में

भजन करूं मैं मंदिर में।।


भीतर अपना पुल्कित कर लो

राम नाम का जाप सब धर लो

मुस्कुराहट दिल में सबके बसेगी

जीवन में खुशियां बरसेगी।।


भजन करुं मैं मंदिर में।।2।।


तेरे सारे पाप कटते जाएंगे

भग्वन जब खुश हो जाएंगे

भर देंगे खुशियों से झोली

खुशियों ही होंगी तेरी हमजोली।।


भजन करूं मैं मंदिर में।।2।।


मीठी बोली एसी तुम बोलो

सबके दिल में बस जाओ

एसा कुछ ना बोलो कभी तुम

सबके दिल से ही उतर जाओ।।


भजन करूं मैं मंदिर में।।2।।


मेरी माता साथ तू देना

क्या सही क्या गलत ये भी कहना

भटक जाऊं यदि कभी मैं माता

मेरा मार्गदर्शन कर साथ ही रहना।।


भजन करूं मैं मंदिर में।।2।।


वीना आडवानी तन्वी

नागपुर, महाराष्ट्र