मनीष हत्याकांड पर अखिलेश का सरकार पर हमला

अब तक आरोपी पुलिसवालों के घर पर बुल्डोजर चला क्या: अखिलेश यादव

लखनऊ। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को लखनऊ में प्रेस कांफ्रेंस की। इस दौरान उन्होंने गोरखपुर में कारोबारी मनीष गुप्ता की पुलिस से पिटाई से मौत मामले पर योगी सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने पूछा कि क्या हो रहा है गोरखपुर में जहां से मुख्यमंत्री चुनकर आते हैं? जहां मुख्यमंत्री जाकर वापस आते हैं वहां हत्या हो जाती है? जिस पुलिस पर भरोसा था उसी ने जान ले ली और अभी भी फरार हैं। ये आरोपी फरार हैं या सरकार ने इन्हें फरार किया है? सरकार दावा करती थी कि दमदार और बुलडोजर चलाने वाली सरकार है। लेकिन जो लोग मनीष गुप्ता हत्याकांड के आरोपी हैं उनके घर पर बुल्डोजर चला क्या, पूरा प्रदेश जानता है कि पुलिस कप्तान के खिलाफ इसलिए कार्रवाई नहीं हो रही है क्योंकि वे भाजपा नेता के रिश्तेदार हैं। अफसरों से जब भाजपा चुनाव जिताने का काम लेगी तो कैसे उम्मीद कर सकते हैं कि न्याय मिलेगा, गोरखपुर के पुलिस प्रशासन (डीएस-एसपी) का जो वीडियो वायरल हुआ है, उन पर कार्रवाई होनी चाहिए। एसएसपी भाजपा नेता के रिश्तेदार हैं, इसलिए उन पर कार्रवाई नहीं हो रही है। पत्रकार साथियों पर बड़ा खतरा है, वो सच दिखा देंगे तो उन पर खतरा है। आज बसपा, कांग्रेस, भाजपा से तमाम नेताओं ने सपा की सदस्यता ली है। ये संविधान बचाने की लड़ाई है। इस लड़ाई में सभी साथ देने आए हैं। जिस रास्ते पर भाजपा चलती है, उस रास्ते पर किसान, नौजवान, व्यापारी किसी का भला नहीं है। संविधान के हर अधिकार को भाजपा छीन रही है। ये लड़ाई संविधान बचाने की है। जितना झूठ भाजपा बोल रही है, इतना झूठ कोई नहीं बोल सकता है। सभी को पता है कि महंगाई है, डीजल-पेट्रोल, खाद, महंगा है। लेकिन भाजपा को नहीं पता है। भाजपा को ये भी नहीं पता कि आज बिजली का ज्यादा बिल देना पड़ रहा है। लखनऊ में विवेक तिवारी की हत्या हुई, नोएडा में हत्या हुई। झांसी में पुलिस ने पुष्पेंद्र की हत्या की। सबसे ज्यादा फेक एनकाउंटर यूपी में हुए हैं। आज हर जाति बिरादरी के लोग सपा के साथ आकर भाजपा को हटाना चाहते हैं।गोंडवाना पार्टी ने दिया समर्थन, रिजवान जहीर बसपा छोड़ सपा में आए उत्तर प्रदेश में चुनाव होने में महज 5 माह बचे हैं। ऐसे में दलीय आस्थाएं भी बदल रही हैं। शुक्रवार को पूर्व सांसद रिजवान जहीर और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष, पूर्व विधायक गयादीन अनुरागी ने सपा का दामन थाम लिया। रिजवान जहीर दो बार सांसद, तीन बार विधायक और दो बार जिला पंचायत अध्यक्ष रहे हैं। इसके अलावा पूर्व विधायक उरई विनोद चतुर्वेदी ने भी अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ सपा जॉइन की है। वहीं, आज गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के तुलेश्वर सिंह मरकाम ने सपा को समर्थन दिया है। हमीरपुर से विधायक रह चुके कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष गयादीन अनुरागी ने सपा का दामन थाम लिया है। गयादीन अनुरागी ने प्रदेश नेतृत्व (अजय कुमार लल्लू) पर सवाल उठाते हुए अपना इस्तीफा पार्टी की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी को भेज दिया है। अपने इस्तीफे में गयादीन अनुरागी ने यूपी कांग्रेस कमेटी के बड़े पदाधिकारियों की कार्यशैली और निष्क्रियता के कारण पार्टी में असहज महसूस करने की बात कही है।