बुलंदशहर में फर्जी एनकाउंटर मामले में रिटायर्ड डीएसपी रणधीर सिंह ने किया सरेंडर

फरार चल रहे डीएसपी पर था 25 हजार का ईनाम

लखनऊ। बुलंदशहर में फर्जी एनकाउंटर मामले  में यूपी पुलिस के इनामी रिटायर्ड डीएसपी रणधीर सिंह ने बुलंदशहर  की कोर्ट में सरेंडर कर दिया है।लंबे समय से फरार डीएसपी पर बुलंदशहर एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने कल ही 25 हजार का इनाम घोषित किया था। इनामी रिटायर डिप्टी एसपी रणधीर सिंह ने 2002 में सिकन्दराबाद में बतौर इंस्पेक्टर एनकाउन्टर की अगुवाई की थी। रणधीर सिंह पर बीटेक के छात्र को लुटेरा बताकर फर्जी एनकाउंटर का आरोप है। मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही हैं।

 20 अक्टूबर को मामले में अगली सुनवाई होनी है। कल मंगलवार को  बुलंदशहर के एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने पूर्व डिप्टी एसपी पर 25 हजार का इनाम की घोषित किया था। उन्होंने कहा था कि रणधीर सिंह बतौर थाना प्रभारी निरीक्षक सिकंदराबाद की अगुवाई में एक एनकाउंटर हुआ था। वर्ष 2002 में बुलंदशहर के थाना सिकंदराबाद कोतवाली इलाके में फर्जी एनकाउंटर मामले में मुलजिम रिटायर्ड डिप्टी एसपी रणधीर सिंह सहित यूपी पुलिस के 4 अन्य पुलिस कर्मी भी मौजूद थे।

 इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार पर हाल ही में 7 लाख का जुर्माना लगाया है। सुप्रीम कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा कि बुलंदशहर में एनकाउंटर मामले में आरोपी सिपाही और पुलिस अफसरों को सरकारी मशीनरी पूरी तरीके से बचाने का प्रयास कर रही है। एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने कहा था कि रिटायर डिप्टी एसपी रणधीर सिंह पुराने लंबे समय से फरार चल रहे न्यायालय द्वारा एनबीडब्ल्यू घोषित हो चुका है,  जल्द से जल्द गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा। आज अचानक रिटायर्ड डीएसपी के सरेंडर से कहीं न कहीं पुलिस पर सवाल उठ रहे हैं।