विजयदशमी पर भगवान श्रीराम ने बुराई के प्रतीक रावण का किया संहार

मथुरा/गोवर्धन। राम लीला के अंतर्गत श्री राम और लक्ष्मण के स्वरूपों ने भयंकर युद्ध में अहिरावण ,नारान्तक  और रावण के अन्य वीर योद्धाओं के साथ अंत में रावण का वध किया। जिसके बाद रावण के लगभग 55 फीट ऊंचे पुतले में रामचंद्र जी द्वारा तीर चला कर आग लगाई गई और बुराई के प्रतीक रावण का पुतला धू-धू कर जल उठा जिसे देखने के लिए कस्बे और आसपास के क्षेत्रों से हजारों की संख्या में बूढ़े बच्चे स्त्री पुरुष रामलीला मैदान पहुंचे । जैसे ही रावण के पुतले में आग लगी भगवान श्री राम लक्ष्मण की जय जय कार के नारे लगने लगे सियापति रामचंद्र की जय के नारों से पूरा वातावरण गुंजायमान हो उठा इस अवसर पर सुरक्षा व्यवस्था के लिए गोवर्धन थाना पुलिस प्रभारी रविंद्र बाबू और उप निरीक्षक सतीश कुमार सहित तमाम पुलिसकर्मी रामलीला मैदान में मौजूद रहे रामलीला कमेटी के अध्यक्ष गौतम खंडेलवाल और उपाध्यक्ष लक्ष्मण मुखिया एवं महामंत्री विष्णु अग्रवाल ने सभी रामलीला सहयोगी यों कलाकारों मीडिया कर्मियों तथा पुलिसकर्मियों का सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया और दुपट्टा पहना कर सभी का स्वागत किया इस अवसर पर रामलीला में अपना सहयोग प्रदान करने वाले तमाम कलाकारों के साथ साथ रामलीला कमेटी के तमाम पदाधिकारी मौजूद रहे।