जस्टिस राजेश बिंदल बने इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश

लखनऊ। जस्टिस राजेश बिंदल ने आज उत्तर प्रदेश राजभवन में इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के रूप में पद तथा गोपनीयता की शपथ ली। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने उनको पद तथा गोपनीयता की शपथ दिलाई। इस अवसर पर राजभवन के गांधी हाल में सीएम योगी आदित्यनाथ ने मुख्य न्यायाधीश को भी बधाई दी। इलाहाबाद हाईकोर्ट के नवनियुक्त मुख्य न्यायाधीश राजेश बिन्दल को प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने लखनऊ के राजभवन के गांधी सभागार में शपथ दिलाई। इस मौके पर  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे। सीएम योगी आदित्यनाथ ने उनको बधाई भी दी। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने दिन में 11 बजे उनको राजभवन में शपथ दिलाई। इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उनके मंत्रिमंडल के सहयोगी तथा वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद थे। कलकत्ता हाईकोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायमूर्ति राजेश बिंदल को इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया है। यह नियुक्ति राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने की है। इस आशय की अधिसूचना भारत सरकार के अपर सचिव राजिंदर कश्यप ने जारी की है। मुख्य न्यायमूर्ति राजेश बिंदल का जन्म 16 अप्रैल 1961 को हरियाणा के अंबाला में हुआ था। उन्होंने कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से विधि स्नातक करने के बाद सितंबर 1985 से पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट में विधि कार्य शुरू किया। वकालत के दौरान वे हरियाणा राज्य की ओर से सतलज यमुना विवाद में बनी इडी ट्रिब्यूनल में हरियाणा सरकार के पक्षकार थे। वही प्रोविडेंट फंड, आयकर विभाग व अन्य महत्वपूर्ण विभागों की तरफ से हाईकोर्ट में सरकार का पक्ष रखते थे।  22 मार्च 2006 को पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट में जज बने। यहां से स्थानांतरण होने के पहले उन्होंने लगभग 80000 वादों का निस्तारण किया था। पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट से स्थानांतरित होकर जम्मू कश्मीर हाईकोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश बने। इसके बाद लद्दाख व जम्मू कश्मीर के एक साथ कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के पद पर थे। उन्होंने पांच जनवरी 2021 को कलकत्ता हाईकोर्ट में कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश का पद संभाला। इसके बाद 29 अप्रैल 2021 को कोलकाता हाईकोर्ट में मुख्य न्यायाधीश बनाए गए। इलाहाबाद हाईकोर्ट में अभी तक कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश का काम जस्टिस एमएन भंडारी देख रहे थे।