केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री की हो बर्खास्तगी: आइपीएफ

लखनऊ। लखीमपुर खीरी में किसानों पर हुए बर्बर हमले और हत्या के खिलाफ वहां जा रहे राजनीतिक दलों को रोकना और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को गिरफ्तार कर हिरासत में रखना लोकतंत्र की हत्या है। लोकतंत्र की इस हत्या के खिलाफ आइपीएफ पूरे प्रदेश में अभियान चलायेगा। इस आशय का राजनीतिक प्रस्ताव आइपीएफ की केन्द्रीय वर्किंग कमेटी द्वारा लिया गया।

 प्रस्ताव के बारे में प्रेस को आइपीएफ के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस. आर. दारापुरी ने जानकारी देते हुए बताया कि जब गाड़ियों से किसानों को कुचलने का वीडियो सामने आ गया है तब भी केंद्रीय राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी को मंत्री पद से बर्खास्त न करना और उसके पुत्र अभिषेक मिश्र की गिरफ्तारी न करना स्पष्ट रूप से दर्षाता है कि मोदी-योगी सरकार हत्यारों को संरक्षण दे रही है। आइपीएफ ने सरकार से किसानों की हत्या करने वाले केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के पुत्र आशीष मिश्र की तत्काल गिरफ्तारी, अजय मिश्र को मंत्री को पद से हटाने और लखीमपुर में लोकतंत्र बहाल करने व प्रियंका गांधी को बिना शर्त रिहा करने और लखीमपुर में मृतक परिवारों से मिलने देने पर किसी भी प्रकार की रोक न लगाने की मांग की है।