REET 2021 : रीट को लेकर राजस्थान सीएम गहलोत ने की ये अपील

REET 2021: राजस्थान में 26 सितंबर को आयोजित होने जा रही राज्य की अब तक की सबसे बड़ी परीक्षा रीट को लेकर बुधवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सभी संगठनों, पार्टियों और आम जनता से सहयोग की अपील की है। उन्होंने कहा कि रीट परीक्षार्थी राजस्थान रोडवेज  में फ्री यात्रा कर सकते हैं। उन्होंने ट्वीट कर कहा, '26 सिंतबर को आयोजित होने वाली रीट परीक्षा में 16.51 लाख अभ्यर्थी शामिल होंगे। यह प्रदेश की अभी तक की सबसे बड़ी परीक्षा होगी। प्रदेश सरकार ने अभ्यर्थियों के लिए रोडवेज में निशुल्क यात्रा का इंतजाम किया है। अभ्यर्थियों की संख्या काफी अधिक है ऐसे में सभी के सहयोग की जरूरत है।'

एक अन्य ट्वीट में गहलोत ने कहा, 'मैं सभी राजनीतिक दलों, सामाजिक संगठनों एवं आमजन से अपील करता हूं कि व्यवस्था बनाने में प्रशासन एवं अभ्यर्थियों का सहयोग करें। दूसरे स्थानों से आए अभ्यर्थियों को रुकने, खाने आदि में यथासंभव मदद करें। कोई भी अफवाह ना फैलायें। युवाओं के उज्ज्वल भविष्य के लिए इस परीक्षा का सफल आयोजन हम सभी की जिम्मेदारी है।'

26 सितंबर को राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा (रीट) 2021 होगी। इसमें 16.51 लाख अभ्यर्थी शामिल होंगे। इनमें से 9 लाख दोनों पारियों में शामिल होंगे, यानी दोनों पारियों में कुल 26.51 लाख अभ्यर्थी होंगे। परीक्षा के दौरान व्यवस्था न बिगड़े इसलिए रेस्मा लागू किया गया है।

शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पवन कुमार गोयल ने मंगलवार को परीक्षा आयोजन की रूपरेखा प्रस्तुत करते हुए बताया कि इस परीक्षा के लिए 25 लाख 71 हजार अभ्यर्थी पंजीकृत हैं, जिनमें से 9 लाख अभ्यर्थी दोनों स्तर की परीक्षा में शामिल होंगे। इस प्रकार शारीरिक तौर पर 16 लाख 22 हजार अभ्यर्थी इस परीक्षा में बैठेंगे। उन्होंने बताया कि इनमें से 2 लाख 70 हजार अभ्यर्थी दूसरे राज्यों के हैं तथा 7 लाख 30 हजार परीक्षार्थी स्वयं के गृह जिले में परीक्षा देंगे एवं 6 लाख 20 हजार अभ्यर्थियों का अन्तर जिला आवागमन होगा। 

गोयल ने बताया कि परिवहन विभाग, रोडवेज एवं रेलवे के समन्वित प्रयासों से आवागमन की सुगम व्यवस्था की जा रही है। रेलवे से 9 रूट्स पर 17 विशेष रेलगाड़ियों के संचालन का आग्रह किया गया है। परीक्षा संचालन की अन्य व्यवस्थाओं की पुख्ता तैयारी की जा रही है। उन्होंने माध्यमिक शिक्षा बोर्ड को परीक्षा केन्द्रों पर समय पर प्रश्न पत्र पहुंचाने, अधिकारियों की नियुक्ति, केन्द्रों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने तथा अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्रों में त्रुटियों को सुधारने के निर्देश दिए। गृह विभाग के प्रमुख शासन सचिव अभय कुमार ने बताया कि पेपर लीक जैसी आशंका को रोकने के लिए स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) अलर्ट मोड पर है।