IND vs ENG: इन वजहों के चलते ओवल में है टीम इंडिया की जीत पक्की

सीरीज के चौथे टेस्ट मैच में अभी आखिरी दिन का खेल बचा हुआ है, लेकिन विराट कोहली के जाबांजों ने टेस्ट के चौथे दिन सीरीज में अजेय बढ़त लेने की तरफ कदम बढ़ा दिए हैं। शार्दुल ठाकुर और ऋषभ पंत की शतकीय साझेदारी की बदौलत भारतीय टीम ने अंग्रेजों के सामने 368 रनों का पहाड़ जैसे लक्ष्य खड़ा किया है। जो रूट की अगुवाई वाली इंग्लैंड टीम को अगर ओवल में बाजी मारनी है तो इस मैदान के इतिहास को बदलना होगा। पांचवें दिन की पिच और भारतीय तेज गेंदबाजों की फॉर्म को देखते हुए इंग्लिश टीम के लिए ऐसा कर पाना बेहद मुश्किल नजर आ रहा है। आइए आपको समझाते हैं कि किन तीन वजहों के चलते टीम इंडिया ने चौथे टेस्ट को लगभग अपनी मुट्ठी में कर लिया है। 

ओवल के मैदान पर टेस्ट क्रिकेट में अबतक चौथी पारी में कोई भी टीम 300 से ज्यादा के लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा नहीं कर सकी है। इस मैदान पर क्रिकेट के सबसे लंबे फॉर्मेट में चौथी इनिंग में सर्वाधिक 263 रन चेज हुए हैं। साल 1902 में इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सफलतापूर्वक रनों का पीछा करके जीत दर्ज की थी। यानी ओवल में अगर जो रूट की टीम को जीत का स्वाद चखाना है तो चौथी पारी में इतिहास रचना होगा। इसके साथ ही आपको बता दें कि भारत ने टेस्ट क्रिकेट में 300 से ज्यादा की बढ़त लेने के बाद पिछले 44 साल से कोई भी मुकाबला नहीं गंवाया है। साल 1977-78 में ऑस्ट्रेलिया ने टीम इंडिया के खिलाफ 342 रन चेज करके मैच जीता था। ऐसे में इंग्लैंड को जीत के लिए भारत के खिलाफ वो करके दिखाना होगा जो दुनिया की कोई भी टीम भारत के खिलाफ आखिरी 44 साल में नहीं कर सकी है। 

तीसरी वजह जो भारत की ओवल में जीत पक्की करती दिख रही है वो है रोहित शर्मा और चेतेश्वर पुजारा की शतकीय साझेदारी। टेस्ट में यह दूसरा मौका है जब इन दोनों बल्लेबाजों ने शतकीय पार्टनरशिप जमाई है। इससे पहले 2019 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ भारत की इस जोड़ी ने ऐसा किया था। खास बात यह है कि उस पारी में भी हिटमैन ने 127 रन ठोके थे और ओवल में भी रोहित का स्कोर वही रहा है। भारत ने उस मैच में साउथ अफ्रीका को धूल चटाई थी। यानी अगर रोहित-पुजारा की पार्टनरशिप को ध्यान में रखें तो मैनचेस्टर में टीम इंडिया 2-1 की बढ़त के साथ जाती दिख रही है।