ऐ कमबख्त कोराना,कुछ तो कहो ना

ऐ कमबख्त कोरोना,

कुछ तो कहो ना

कब तक चलेगा जग में,

यूं रोना-धोना

ऐ कमबख्त कोरोना..........


माना कि तेराअपना,

है कुछ उसूल

गुस्ताखी की तेरी जद में

जाने की भूल,

कब तक देखते रहें,

अपनों को खोना

ऐ कमबख्त कोरोना..........


समझ गया बखूबी मैं,

तेरे इस प्लान को

परवाह नहीं करती तुम ,

दूसरों की जान को

लूट लिया शुकून

दुर्लभ किया,

 खाना,पीना,सोना

ऐ कमबख्त कोरोना........


ना करें भूल कोई,

रहें हम बचकर

काम चाहे जैसा हो,

करें सोच समझकर

मुंह पे मास्क, धोएं हाथ,दूर रहें,

स्वच्छ रखें घर का कोना-कोना

ऐ कमबख्त कोरोना.........


ऐ कमबख्त कोरोना,

कुछ तो कहो ना

कब तक चलेगा जग में,

यूं रोना-धोना

ऐ कमबख्त कोरोना.......

................................................................

सम्पर्क सूत्र.....

राजेंद्र कुमार सिंह

मेट्रो जोन,नाशिक-09,ईमेल: rajendrakumarsingh4@gmail.com