भावों की भाषा

दिल से तक जो पहुँचे।

वो भाषा केवल है हिंदी।

सबसे प्यारी सबसे निराली,

भाषाओं में भाषा है हिंदी।।


माँ की ममता सी हिंदी,

भाई की राखी सी हिंदी।

यारों की यारी सी हिंदी,

बहना प्यारी सी है हिंदी।।


वीणा की सरगम है हिंदी,

वंशी की सुंदर धुन हिंदी।

भँवरे की गुनगुन है हिंदी,

पायल की रुनझुन है हिंदी।।


गंगा सी पावन है हिंदी,

यमुना सी निश्छल है हिंदी।

ऋषियों मुनियों जप हिंदी,

राधा मीरा का तप हिंदी।।


सार रसों की है हिंदी,

अलंकारों का भण्डार हिंदी।

भावों की भाषा है हिंदी,

दिल की अभिलाषा है हिंदी।।


हम सबका अभिमान हिंदी,

भारत माँ का सम्मान हिंदी।

सपना का है एक सपना,

छाए विश्व पटल पर बस हिंदी।।


स्वरचित

सपना (सo अo)

जनपद-औरैया

उत्तर प्रदेश