लंगूर के हाथ उस्तरा

मई महीने से अगस्त महीने तक अफगानिस्तान के लड़कों ने धमासान मचाया और अब सारे विदेशी सैनिकों ने अफगान छोड़ दिया।और तालिबानियों के लिए आयुधों का जखीरा छोड़ गए।आज तालिबानी लडाकों के हाथ में असॉल्ट रायफल हैं।पेंटागन के लॉजिस्टिक एजेंसी के हिसाब से आज अफगानियो के ८.८४ लाख हथियार हैं जो अमेरिकन सैनिकों ने छोड़े हैं।६ लाख के आधुनिक सैन्य हथियार,२०८ विमान और हेलीकॉप्टर , २३  ऐ२९ लाइट अटैक विमान,६० ट्रांसपोर्ट विमान,जिसमे– सी १३० , सी १८२, टी १८२ और ए ए एन ३२ शामिल हैं।३३ ए सी–२०८ विमान  जैसे अनगिनित हथियार छोड़ गए हैं।दूसरे घातक हथियारों में – ३५८५३० आधुनिक रायफल, एम–४ करबाईन,६४ हजार से भी ज्यादा मशीन गन,२५ हजार से ज्यादा ग्रेनेड लॉन्चर,१२३२९५ आधुनिक पिस्टल,९८७७ रॉकेट आधारित हथियार,२३०६ मोरटार और तोप और ये भी  अनगिनित हैं।हवाई हमला करने वाले चार ब्लेड वाले  ब्लैक हॉक जो अपने साथ तोप भी ले जा सकते हैं।बहुउद्देशीय ट्रांसपोर्ट विमान सी १३० हरकुलस ।जैविक हमले से सैनिकों की रक्षा करने वाला हमविस युध्धक वाहन, सैनिको के कवच से मोबाइल टास्क फोर्स व्हीकल  जिस पर बारूदी सुरंग फटने का असर नहीं होता।उपरोक्त सूची से ज्यादा या कम कुछ भी उनके पास हो सकता हैं।उसकी कोई पुष्टि नहीं हो सकती। बहुत सारे आतंकवादी जूथ है लेकिन किसी की भी वायु सेना नहीं हैं, ड्रोन हैं उनके पास किंतु तालिबानों के पास वायुसेना भी हैं।

 वैसे इतने हथियार और विमानों का होना  ही काफी नहीं हैं उनका उपयोग बिना ट्रेनिग के करना मुश्किल हो सकता हैं।

 अगर वे इन सब आयुधों का उपयोग कर अपने दुश्मनों पर हमला करे तो क्या परिणाम हो सकते हैं वो अकल्पनीय हैं,मन और शरीर थर्रा के रह जाते हैं।

      अफगान के बाहर तो जब वो आयेंगे तब की बात हैं किंतु अफगान के अंदर क्या हो रहा हैं सभी को विदित हैं।कभी तो जोयराइड जैसे अपने विरोधियों या अमेरिकन एजेंसियों को मदद करने वालों को लटका के हेलीकॉप्टर उड़ा रहे हैं तो खेल खेल में धना धन गोलियां चला रहे हैं,कभी अपनी अफगानी पोशाक के बदले अमेरिकन सैनिकों की  वर्दी पहन नाच कर बचकाना हरकते करते दिखते हैं।एक तरफ सभी को विश्वास दिलाने की कोशिश करते हैं और दूसरी ओर लोगों को बेफाम तरीके से परेशान करते हैं ,तो कभी लोगों को गोलियों से भूनते नजर आते हैं।

 अभी तो उनकी सरकार बन जायेगी और आर्थिक प्रश्नों का हल आ गया फिर उनके सही इरादों का पता चलेगा।अपने देश के लिए कितनी मुश्किलें पैदा कर सकते हैं और अगर लंगूर को चीन की दिखाई कोई सीडी मिली तो बहुत ही ज्यादा मुश्किलें एशिया और दुनियां सारी के लिए खड़ी हो जायेगी।


जयश्री बिरमी

निवृत्त शिक्षिका

अहमदाबाद