दिनेश कार्तिक ने बताया मैनचेस्टर टेस्ट रद्द होने का कारण

                                    
भारत और इंग्लैंड के बीच पांचवां टेस्ट मैच फिलहाल के लिए स्थगित कर दिया गया है और अब उसके अगले साल होने की ही संभावना है। शुक्रवार को मैनचेस्टर में शुरू होने वाले इस मुकाबले को टॉस से कुछ घंटे पहले रद्द कर दिया गया। भारतीय दल में कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी ने खिलाड़ियों की चिंतित कर दिया, जिसके बाद दोनों क्रिकेट बोर्ड ने मिलकर मैच को रद्द करने का फैसला किया।  

विकेटकीपर बल्लेबाज और इंग्लैंड में बतौर कमेंटेटर मौजूद दिनेश कार्तिक ने भी भारत के कुछ खिलाड़ियों से बात की और पूरे मामले को समझने की कोशिश की। कार्तिक ने स्काई स्पोर्ट्स से बातचीत में कहा, 'मैंने कुछ भारतीय खिलाड़ियों से बात की। लगभग सभी मैच हुए, वह थक गए हैं और उनके पास सिर्फ एक ही फिजियो है। उनके पास पहले दो थे लेकिन इससे पहले मुख्य कोच समेत कई अन्य कोचिंग स्टाफ भी संक्रमित हो गए, जिसके बाद उनके पास एक ही फिजियो बचे जिन्होंने खिलाड़ियों के साथ बहुत काम किया लेकिन अब वह भी पॉजिटिव हो गए और यही समस्या है।'

गौरतलब है कि चौथे टेस्ट से पहले भारतीय टीम के मुख्य कोच नितिन पटेल कोरोना संक्रमित पाए गए, जिसके बाद उन्हें एकांतवास में भेज दिया गया। इसके बाद पांचवें टेस्ट से एक दिन पहले टीम के असिस्टेंट फिजियो योगेश परमार भी संक्रमित निकले। योगेश कई खिलाड़ियों के संपर्क में थे, ऐसे में टीम के कुछ खिलाड़ी घबरा गए। कार्तिक ने कहा, 'अगर योगेश की जगह कोई और या किसी अन्य विभाग का होता तो वे नहीं डरते लेकिन जब फिजियो संक्रमित हुआ, तब वे अधिक घबरा गए। आपको यह भी समझना होगा कि जैसे ही यह टेस्ट खत्म होता उन्हें आईपीएल, उसके तुरंत बाद वर्ल्ड कप और फिर न्यूजीलैंड सीरीज में शामिल होना पड़ता और यह सब कुछ हफ़्तों में होता।' भारतीय कॉमेंटेटर ने कहा, 'वे कितने बबल करेंगे? उन्होंने 16 मई को देश छोड़ा था तबसे अब तक लगभग चार महीने हो गए हैं। यह बहुत समय होता है।' कार्तिक ने खुलासा किया कि कई सारे भारतीय खिलाड़ी सुबह तीन बजे तक सोये नहीं, ऐसे में टेस्ट मैच में उतरना लगभग नामुमकिन था।