घरों में विराजेंगे बप्पा, छोटी मूर्तियों की मांग अधिक

फर्रुखाबाद। गणेश चतुर्थी शुक्रवार को है। इस दिन विघ्नहर्ता गणपति भगवान को श्रद्धालु घरों में विराजमान करेंगे। कोरोना के प्रकोप के चलते विगत वर्षों में तो मूर्तिकारों और दुकानदारों को काफी नुकसान हुआ। लेकिन इस बार माहौल सब ठीक होनें से दुकानदार गणपति से शुभ-लाभ की कामना कर रहे है। बाजारों में सोमवार को भगवान गणेश की मूर्तियों की बिक्री भी शुरू हो गयी। छोटी मूर्तियों की पिछले सालों के मुकाबले मांग अधिक है। शहर के बढ़पुर स्थित मिशन अस्पताल के निकट सड़क किनारे बड़ी संख्या में विभिन्य दरों और साइज की गणेश प्रतिमा की दुकानें सज गयी है। आगामी 10 सितंबर को गणेश चतुर्दशी मनायी जा रही है। गणेश उत्सव वैसे तो महाराष्ट्र का मूल पर्व है, लेकिन जिले में भी लोग अब बेसब्री से विघ्नहर्ता के आगमन का इंतजार करते हैं। क्योंकि लगातार कई वर्षों से गणेश प्रतिमा स्थापित करनें का चलन जिले में भी तेज हो गया है।  शहर में दुकानें बप्पा की एक से एक मूर्तियों से सजी हुई हैं। दस दिन तक पूजा-अर्चना होगी और 19 सितंबर को मूर्ति विसर्जन किया जाएगा। नदी-नहर में विसर्जन की अनुमति शर्तों के साथ मिलेगी या नहीं। इस बारे में अभी कुछ स्पष्ट नहीं है। लेकिन विसर्जन शोभायात्रा का आयोजन नहीं होगा। ऐसे में छोटी-छोटी मूर्तियां ही लोग घर ले जा रहे हैं, जिससे घर में भी गमले या बाल्टी आदि में विसर्जन करना पड़े तो दिक्कत न हो। साथ ही अकेले नदी-नहर में विसर्जन को जाएं तो भी सहुलियत रहे।