अमिताभ बोले- व्यवसाय के बारे में सोचना पड़ता

अमिताभ ने एक फेसबुक पोस्ट किया था। इस पोस्ट में अमिताभ ने लिखा था, 'एक घड़ी खरीदकर हाथ में क्या बाँध ली, वक्त पीछे ही पड़ गया मेरे।' इस पर एक सोशल मीडिया यूजर ने लिखा, 'प्रणाम सर, सिर्फ एक बात ही पूछनी है आपसे... क्या जरूरत है कि आपको भी कमला पसन्द पान मसाले का विज्ञापन करना पड़ा, फिर क्या फर्क है आप में और इन टटपुंजियो में....।'

'मान्यवर, क्षमा प्रार्थी हूं, किसी भी व्यवसाय में यदि किसी का भला हो रहा है, तो ये नहीं सोचना चाहिए कि हम उसके साथ क्यों जुड़ रहे हैं। हां, यदि व्यवसाय है तो उसमें हमें भी अपने व्यवसाय के बारे में सोचना पड़ता है। अब आपको ये लग रहा है की मुझे ये नहीं करना चाहिए था, लेकिन इसको करने से, हां मुझे भी धनराशि मिलती है, लेकिन हमारे उद्योग में जो बहुत से लोग काम कर रहे हैं।

मिताभ ने एक दूसरे कमेंट में आगे लिखा, 'जो कि कर्मचारी हैं उनको भी काम मिलता है और धन भी और मान्यवर, तूतपूंजिया शब्द आपके मुख से शोभा नहीं देता, और ना ही हमारे उद्योग के अन्य कलाकारों को भी शोभित करता है, आदर सहित नमस्कार करता हूं।' अमिताभ के इन दोनों कमेंट्स पर ढेर सारे लाइक्स और कमेंट्स आ चुके हैं।