मुख्यमंत्री ने गाजियाबाद में करंट से हुई लोगों की मृत्यु पर शोक व्यक्त किया

लखनऊ। गाजियाबाद जिले में बड़ा हादसा हुआ है। करंट की चपेट में आने से पांच लोगों की मौत हो गई है। इनमें दो बच्चों और महिलाएं भी शामिल हैं। जबकि एक की हालत गंभीर बनी हुई है। पुलिस मौके पर पहुंची और जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। जानकारी के अनुसार, गाजियाबाद के सिहानी गेट के राकेश मार्ग पर गली नंबर-3 के सामने छह लोग करंट की चपेट में आ गए। जिला अस्पताल ले जाने पर दो बच्चों और महिला को मृत घोषित कर दिया गया, जबकि तीन की हालत गंभीर होने के कारण उन्हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान एक युवक और बच्ची ने दम तोड़ दिया। अभी एक की हालत गंभीर बनी हुई है। घटना बुधवार सुबह करीब 10 बजे की है। बताया जा रहा है कि राकेश मार्ग पर गली नंबर-3 के सामने एक दुकान के बल्ब का होल्डर लटका हुआ था, और उसके ऊपर से तार भी जा रहे हैं। ऐसे में बारिश के चलते दुकान के टिन शेड में करंट उतर आया।दुकान पर सामान लेने गई दो बच्ची करंट की चपेट में आ गईं। उन्हें बचाने के लिए पड़ोसी और फिर बच्चों की मां दौड़ पड़ी तो वह भी करंट की चपेट में आ गईं। इसके अलावा एक पड़ोस की किशोरी भी करंट की चपेट में आ गई। करीब 10 मिनट तक एक ही स्थान पर सभी को तड़पता देख लोगों को करंट का एहसास हुआ, जिसके बाद आनन-फानन बिजली सप्लाई बंद कराकर सभी को अस्पताल ले जाया गया। रायबरेली की रहने वाली जानकी (35) उसकी चार वर्षीय बेटी सुरभि, उसकी भतीजी सिमरन (10) को मृत घोषित कर दिया गया, जबकि हालत नाजुक होने के कारण तीन को निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इलाज के दौरान मधुबनी बिहार निवासी लक्ष्मीनारायण (24) और सीतामणी बिहार निवासी उषा की बेटी खुशी (11) ने दम तोड़ दिया। वहीं, एक की हालत अभी गंभीर बनी हुई है। फिलहाल पुलिस जांच में जुटी है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद गाजियाबाद में करंट से हुई लोगों की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगत आत्मा की शान्ति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है। मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन को इस घटना के कारणों की जांच कर आख्या उपलब्ध कराने के निर्देश दिये हैं।