मैच के लिए पूरी तरह तैयार होना कुछ आईपीएल खिलाड़ियों के लिए मुद्दा हो सकता है: मौरिस

दुबई : राजस्थान रॉयल्स के दक्षिण अफ्रीकी हरफनमौला क्रिस मौरिस का मानना है कि इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के पहले और दूसरे चरण के बीच कोविड-19 के कारण चार महीने का ब्रेक (खेल से विश्राम) कुछ खिलाड़ियों की मैच फिटनेस को प्रभावित कर सकता है। ज्यादातर विदेशी खिलाड़ी दूसरी लीग टूर्नामेंटों में भाग में ले रहे थे और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट भी खेल रहे थे। कोविड-19 के कारण आईपीएल के सत्र को मई में बीच में रोकने के बाद भारतीय घरेलू खिलाड़ियों को प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलना का मौका नहीं मिला। मौरिस से जब दो चरण में आईपीएल के आयोजन की चुनौती के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘‘ पिछली बार की तरह जब दुबई में आईपीएल खेला गया था तो मैच फिटनेस एक मुद्दा थी। इस बार भी शरीर को परिस्थितियों के मुताबिक ढालने के लिए कुछ मैच चाहिये होंगे। मौरिस ने कहा, ‘‘ अच्छी बात यह है कि विदेशी खिलाड़ी कुछ क्रिकेट खेल रहे हैं। मैंने दक्षिण अफ्रीका में सत्र पूर्व अभ्यास किया है, वजन कम करने की कोशिश कर रहा हूं। मैच फिटनेस हमेशा सबसे अच्छी तरह की फिटनेस होती है। हमें दो अभ्यास मैचों में भाग लेने का मौका मिला जिससे हमने मैदान में कुछ समय बिताया है। इस तेज गेंदबाजी हरफनमौला ने कहा, अभ्यास की परिस्थितियां कभी भी मैच की तरह नहीं हो सकती है। मुझे लगता है कि मैच के दौरान कुछ खिलाड़ियों को शरीर को परिस्थितियों के मुताबिक ढालने में संघर्ष करना पड़ेगा। कोविड-19 का यह एक बुरा प्रभाव है।