"चर्चा में केबीसी"

कौन बनेगा करोड़पति देश का सबसे बड़ा टीवी शो है, जिसे करोडों लोग देखते है। शो में हाॅट सीट पर बैठे लगभग सारे प्रतिभागियों से मि. अमिताभ बच्चन उनकी ज़िंदगी से जुड़ी परेशानियों के बारे में सवाल-जवाब करते है, जिसकी लगभग सारे प्रतिभागी खुलकर चर्चा भी करते है। अपना सुख-दु:ख साझा करते बच्चन जी के सामने दिल हल्का करते है, और अमिताभ बच्चन भी बड़ी आत्मीयता से सबकी बातें ध्यान से सुनकर नार्मल प्रतिक्रिया देते है, जो शो के पहले ही सिज़न से शो का हिस्सा रहा है।

पर बीते महीने एक एपिसोड में केबीसी में भाग लेने वालीं कंटेन्स्टेंट श्रद्धा खरे ने अपनी लाइफ के संघर्षों के बारे में बताया। तो अमिताभ बच्चन के सामने नेशनल टीवी पर अपनी लाइफ का खुलासा करने के लिए श्रद्धा के पति ने उनके और सोनी टीवी के खिलाफ़ मुकदमा दर्ज करा दिया है।

श्रद्धा खरे पर उनके पति विनय खरे ने नेशनल टीवी पर उनकी छवि खराब करने का आरोप लगाया है। विनय खरे ने 20 सितंबर को अपने ट्विटर पर खुद इस मुकदमे की जानकारी दी। दरअसल, श्रद्धा खरे और विनय के बीच कुछ ठीक नहीं चल रहा और उनकी लड़ाई अब कोर्ट तक पहुंच गई है। केबीसी हॉट सीट पर बैठी श्रद्धा ने टीवी पर ही कहा कि उनके पति उन्हें सपोर्ट नहीं करते। अपने अंडरट्रायल केस के बारे में बताते हुए भी श्रद्धा भावुक हो गई थीं। इस दौरान अमिताभ बच्चन चुप-चाप उनकी बात सुनते रहे। इस एपिसोड के टेलीकास्ट होने के बाद अब विनय खरे ने अपनी पत्नी और चैनल के खिलाफ़ भी मुकदमा दायर कर दिया है।

विनय खरे ने नोटिस का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा, मेरी पत्नी केबीसी की हॉटसीट में बैठी थी और उन्होंने अंडरट्रायल केस में मेरा अपमान किया है। इसलिए लीगल नोटिस भेजा है। शख्स ने अपनी पत्नी पर कानून अपने हाथ में लेने का आरोप लगाया है।

उन्होंने लिखा, अपनी पत्नी को आत्मनिर्भर बनाने के लिए मैंने अपनी पूरी सेविंग्स लगा दी। आज वो एक इंटरनेशनल बिजनेस चला रही है और मैं उनके द्वारा किए गए केस के कारण बेरोजगार हूँ। अब वो अलग-अलग कोर्ट में मुझसे मुआवजा मांग रही है। वहीं, चैनल को भी निशाने पर लेते हुए विनय ने कहा कि चैनल वाले कैसे एक अंडरट्रायल केस के लिए एक तरफा पक्ष दिखा सकते हैं।

अपने एक इंटरव्यू में विनय खरे ने कहा कि अगर मैं आतंकवादी होता और मुझ पर कोई केस चल रहा होता और मैं केबीसी में आता और राष्ट्रीय हित के खिलाफ़ अपनी कहानी सुनाता तो क्या केबीसी उसे प्रसारित करता? बिना दूसरा पक्ष जाने? वैसे होंट सीट तक पहुंची श्रद्धा खरे सिर्फ 10 हजार रुपए ही जीत पाई, केबीसी से ज़्यादा तो कुछ नहीं मिला पर श्रद्धा को पति से एक और कानूनी लड़ाई लड़नी पड़ेगी। भले ही प्रतिभागियों से सवाल पूछना शो का इरादा गलत नहीं होता, पर जब ऐसे तितर-बितर हुए रिश्ते की सच्चाई जानें बिना किसीके निज़ी संबंध सोशल मीडिया पर प्रसारित कर दिए जाते है तब धुआँ उठना लाज़मी है। 

विनय खरे और श्रद्धा खरे की बात में कितनी सच्चाई है वो तो वही दोनों जानें, पर एक बिगड़े हुए रिश्ते की सच्चाई पूरा देश जान चुका है। हर बार न मर्द गलत होता है न औरत हालात ही ऐसे पैदा होते है की रिश्ता बिखर जाता है। स्त्री के प्रति हर किसीका झुकाव रहता है, इस मामले में देखें अदालत क्या फैसला लेती है।

भावना ठाकर 'भावु' बेंगुलूरु