मुलायम के भाई ने बताए इन नेताओं की वजह से प्रधानमंत्री नहीं बन पाए थे ‘नेताजी’

मुलायम सिंह यादव ने बेटे अखिलेश की ताजपोशी कर एक तरीके से उनके सियासी सफर का रास्ता साफ कर दिया था। कभी कुश्ती के अखाड़े में अपना लोहा मनवाने वाले मुलायम के इस फैसले को सियासी गलियारों में एक ‘दांव’ की तरह देखा गया था। मुलायम सिंह यादव देश के सबसे बड़े सूबे यूपी के मुख्यमंत्री से लेकर केंद्रीय मंत्री की कुर्सी तक तो पहुंचे ही, राजनीति के अखाड़े में बड़े-बड़े धुरंधरों को चित भी किया। हालांकि एक मौका ऐसा भी आया जब मुलायम प्रधानमंत्री बनते-बनते रह गए थे। राजनीति से दूर अपने पैतृक गांव में खेती कर रहे मुलायम के छोटे भाई अभय राम यादव ने ‘द लल्लनटॉप’ को दिये एक इंटरव्यू में इस घटना का जिक्र किया था। अभय राम से पूछा गया था, ‘मुलायम सिंह यादव प्रधानमंत्री नहीं बन पाए थे। आपको याद है कि उस समय ऐसा क्या हुआ था?’ इसके जवाब में अभय राम यादव कहते हैं, ‘हुआ क्या था, लालू ने सब कुछ किया था, इनके साथ शरद यादव भी मिल गए थे और कोई एक नेता भी था। प्रधानमंत्री तो बन ही गए थे मुलायम। सुबह शपथ लेनी थी और रात में ये हो गया।’

इस बीच उनसे दोबारा सवाल पूछा जाता है, ‘अन्य सभी पार्टियां तैयार हो गई थीं? जिसमें हरिकिशन सुरजीत भी थे’ अभय राम यादव कहते हैं, ‘सब तैयार हो गए थे। बिल्कुल ऐन मौके पर लालू प्रसाद यादव, राम विलास पासवान और शरद यादव ने नहीं बनने दिया, नहीं ये तो प्रधानमंत्री बन ही गए थे। सबसे पहले लालू प्रसाद यादव ने ही गड़बड़ की थी और फिर उनके पीछे लगकर बाकी दूसरे नेताओं ने भी गड़बड़ करना शुरू कर दिया था।’