पितरों की प्रतिष्ठा एवं मोक्ष के लिए महुआ गांव के ग्रामीण हरिद्वार के लिए रवाना

पीलीभीत। पितृ पक्ष की संध्या पर पीलीभीत जिले के महुआ गांव के ग्रामीण अपने अपने पूर्वजों को हरिद्वार में प्रतिष्ठित करने एवं मोक्षार्थ के लिए बस से हरिद्वार रवाना हुए। हमारे धार्मिक ग्रंथों पुराणों उपनिषद और धर्म ग्रंथों में पितरों के मोक्ष की विशद व्याख्या की गई है। पितरों के मोक्ष एवं तरण तारण के लिए धर्म ग्रंथों में पूजा दर्पण अनुष्ठान आदि की अनेक विधियां बताई गई है। हमारे धर्म ग्रंथों के अनुसार पितरों के मोक्ष के  तरण तारण एवं तर्पण के लिए इसी पितृपक्ष को सबसे महत्वपूर्ण माना गया है।

गजरौला थाना क्षेत्र के गांव महुआ  के ग्रामीण अपने पूर्वजों की मोक्ष प्राप्ति के लिए अपने पूर्वजों को लेकर हरिद्वार बस से रवाना हुए जिसमें सैकड़ों श्रद्धालु पित्र संध्या पर अपने घरों से हरिद्वार पहुंचकर पितरों का तर्पण करेंगे।

हरिद्वार के गंगा घाट पर समस्त ग्रामीण अपने पूर्वजों को मोक्ष प्राप्ति के लिए पूजा पाठ करेंगे।

विद्वानों धर्म आचार्यों एवं धर्म ग्रंथों का यह मानना है कि जिनके पूर्वज प्रसन्नता पूर्वक अपने नगर गांव घर परिवार पर दृष्टि डालते हैं वह नगर गांव परिवार घर धन-धान्य से परिपूर्ण रहता है।