दिल्ली में अभी बंद रहेंगे 8वीं तक के स्कूल


दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने बुधवार को जारी एक आदेश में कहा कि 16 सितंबर से शहर में व्यापार से संबंधित उपभोक्ता प्रदर्शनियों को अनुमति दी जाएगी। बैंक्वेट हॉल को ऐसी प्रदर्शनियों और मेलों के आयोजन की अनुमति दी जाएगी। हालांकि, आदेश में कहा गया है कि आठवीं कक्षा तक के छात्रों के लिए स्कूल अभी बंद ही रहेंगे।

डीडीएमए ने कहा कि वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय द्वारा निर्धारित मानक संचालन प्रक्रिया (SOP) का सख्ती से पालन करते हुए सभी हितधारकों के साथ प्रदर्शनियों और मेलों की अनुमति दी जाएगी। इसें बिजनेस टू बिजनेस (B2B) और बिजनेस टू कस्टमर्स (B2C) प्रदर्शनियों की अनुमति होगी। आदेश में कहा गया है कि डीडीएमए द्वारा प्रतिबंधित और अनुमत अन्य गतिविधियां 30 सितंबर और 1 अक्टूबर की मध्यरात्रि तक जारी रहेंगी।
 दिल्ली जब कोरोना महामारी की भीषण दूसरी लहर की चपेट में थी उस दौरान रोजाना बड़ी संख्या में लोगों की जान जा रही थी। संक्रमण के मामले इतनी तेजी से बढ़े थे कि दिल्ली के अस्पतालों में बेड्स और ऑक्सीजन की कमी हो गई थी। सभी अस्पतालों में मरीजों के लिए ऑक्सीजन की निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए मारामारी रही।

दिल्ली में 20 अप्रैल को सबसे 28,395 नए मामले सामने आए थे, जो अब तक एक दिन में सर्वाधिक हैं। 22 अप्रैल को यहां पॉजिटिविटी रेट 36.2 प्रतिशत पर पहुंच गया था। महामारी के कारण राजधानी में तीन मई को एक दिन में सबसे अधिक 448 लोगों की मौत हुई थी। मई के मध्य के आसपास मामलों में गिरावट आनी शुरू हुई और अब पॉजिटिविटी रेट एक प्रतिशत से नीचे है। राजधानी में पिछले 30 दिनों (25 जून से) में कोरोना वायरस संक्रमण के 2,320 मामले सामने आए हैं जो औसतन प्रतिदिन 77 मामले हैं। 

स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए आंकड़ों से मिली जानकारी के अनुसार, दिल्ली में पिछले साल 28 मार्च के बाद सोमवार को सबसे कम 17 संक्रमण के मामले आए थे और कोई मौत दर्ज नहीं की गई थी, जबकि संक्रमण की दर 0.04 प्रतिशत रही थी। राजधानी में इस महीने अब तक केवल एक व्यक्ति की कोविड-19 से मौत दर्ज की गई है।

हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक, नए मामलों के साथ दिल्ली में अब तक संक्रमित हुए लोगों की कुल संख्या 14,38,288 हो गई है जिनमें से 14.12 लाख मरीज संक्रमण मुक्त हो चुके हैं और 25,083 लोगों की जान गई है। बुलेटिन के मुताबिक दिल्ली में इस समय 400 एक्टिव केस हैं जिनमें से 98 होम आइसोलेशन में रहकर अपना इलाज करा रहे हैं। इससे एक दिन पहले दिल्ली में कुल एक्टिव मामलों की संख्या 377 मरीजों थी। राजधानी में इस समय 93 कंटेनमेंट जोन हैं, जो सोमवार के 92 के मुकाबले एक अधिक है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली में अब तक 1,51,71,146 लाभार्थियों को कोविड-19 से बचाव के लिए टीके की कम से कम एक खुराक दी जा चुकी है।