जनता को एक और झटका, अगले महीने से 11 फीसदी बढ़ सकती है CNG-PNG की कीमत

नई दिल्ली : कोरोना वायरस महामारी संकट के साथ ही महंगाई की मार झेल रहे लोगों की दिक्कतें कम होती नजर नहीं आ रही हैं। जनता पेट्रोल-डीजल व रसोई गैस सिलिंडर की कीमतों से पहले ही परेशान है। अब अगले महीने से देश में दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों में कंप्रेस्ड नेचुरल गैस (CNG) और पाइप्ड नेचुरल गैस (PNG) के दाम भी बढ़ सकते हैं। इसमें 10 से 11 फीसदी का इजाफा हो सकता है। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज की एक रिपोर्ट के अनुसार, सरकार गैस के दाम में करीब 76 फीसदी का इजाफा कर सकती है। इसका सीधा असर सीएनजी और पीएनजी की कीमतों पर पड़ेगा।

हाल ही में देश में दिल्ली, नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद के लोगों को सीएनजी और पीएनजी की बढ़ी कीमतों ने झटका दे दिया था। इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड ने सीएनजी की कीमतों में वृद्धि की थी। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में सीएनजी की कीमत 45.20 रुपये प्रति किलोग्राम तो वहीं पीएनजी की कीमत 30.91 रुपये प्रति एससीएम है। नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद में, सीएनजी की कीमत 50.90 रुपये प्रति किलोग्राम तो पीएनजी की कीमत 30.86 रुपये प्रति एससीएम है।

सरकार हर छह महीनों में सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी ऑयल एंड नैचुरल गैस कॉर्पोरेशन (ओएनजीसी) जैसी कंपनियों द्वारा उत्पादित प्राकृतिक गैस की कीमतों की समीक्षा करती है। अगली समीक्षा एक अक्तूबर को होनी है। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने कहा कि एक अक्तूबर 2021 से 31 मार्च 2022 तक प्रशासित दर यानी एपीएम बढ़कर 3.15 डॉलर प्रति इकाई (एमएमटीटीयू) हो जाएगी। फिलहाल यह 1.79 डॉलर प्रति इकाई है।

एपीएम गैस की कीमतों में इजाफे से दिल्ली और उसके आसपास के क्षेत्रों में वितरण कंपनी इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड (आईजीएल) और मुंबई में सीएनजी की आपूर्ति करने वाली एमजीएल को अगले एक साल के दौरान कीमतों में भारी बढ़ोतरी करनी पड़ेगी। रिपोर्ट के अनुसार, शहर गैस वितरण कंपनियों को कीमतों में 10 से 11 फीसदी की बढ़ोतरी करनी होगी।

अंतरराष्ट्रीय बाजारों से प्रभावित होकर अप्रैल 2022 से सितंबर 2022 के दौरान एपीएम गैस का दाम बढ़कर 5.93 डॉलर प्रति इकाई हो जाएगा। वहीं अक्तूबर 2022 से मार्च 2023 तक यह 7.65 डॉलर प्रति इकाई होगा। यानी अप्रैल 2022 में सीएनजी और पीएनजी की कीमत में 22 से 23 फीसदी की वृद्धि संभव है। वहीं अक्तूबर 2022 में इसकी कीमत में 11 से 12 पीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है।