उच्च सदन में हुए हंगामे से बेहद भावुक हुए वेंकैया नायडू, की निंदा

नई दिल्ली:  राज्यसभा के सभापति और उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू उच्च सदन में मंगलवार को हुए हंगामे से बेहद नाराज हैं. उन्होंने इसकी निंदा करते हुए कहा, मैं कल कुछ सदस्यों द्वारा टेबल पर चढ़ जाने की घटना से बेहद दुखी और व्यथित हूं. बेहद भावुक नजर आए नायडू ने का, मैं रात भर सोया नहीं हूं. मंगलवार को कांग्रेस सांसद प्रताप सिंह बाजवा और आम आदमी पार्टी के संजय सिंह टेबल पर चढ़ गए थे. बाजवा ने रूलबुक चेयर पर फेंकी थी.

सरकार के कई मंत्रियों ने भी राज्‍यसभा में मंगलवार को हुए हंगामे को शर्मसार करने वाली घटना करार दिया है. ऐसे में बाजवा और आप सांसद पर कार्रवाई हो सकती है. राज्यसभा में हंगामा खड़ा करने वाले सांसदों के खिलाफ मामले को संसद की आचार (एथिक्स) समिति के पास भेजा जा सकता है. सरकार की मांग है कि राज्यसभा में हंगामा करने वाले सांसदों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो. बुधवार को कार्यवाही शुरू हुई तो सभापति ने कहा कि जिस तरह से कुछ सदस्‍य टेबल पर खड़े हुए, उससे मैं दुखी हूं. वो इस घटना की कड़ी निंदा करते हैं.

इस मामले वरिष्ठ मंत्रियों की सभापति वेंकैया नायडू से मुलाकात हुई है. मालूम हो कि कांग्रेस के सांसद प्रताप सिंह बाजवा और आम आदमी पार्टी के संजय सिंह टेबल पर चढ़ गए थे. यही नहीं, बाजवा ने रूलबुक चेयर पर फेंकी थी. केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने राज्‍यसभा में कल हुए हंगामे को शर्मसार करने वाली घटना करार दिया.

गौरतलब है कि सरकार और विपक्ष के बीच पेगासस जासूसी स्कैंडल, पेट्रोल-डीजल की कीमत और किसान आंदोलन जैसे मुद्दों पर चर्चा कराए जाने और सवालों को लेकर लगातार संसद के दोनों सदनों में गतिरोध चल रहा है. सरकार और विपक्षी दल दोनों ही कह रहे हैं कि वो चर्चा के लिए तैयार हैं, लेकिन सदन में हंगामा और नारेबाजी खत्म होने का नाम नहीं ले रही है. लोकसभा की कार्यवाही बुधवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई. इस तरह निचले सदन का समय से दो दिन पहले ही समापन हो गया.