अपात्रों को पेंशन स्वीकृत करने वाले अधिकारियों के विरूद्ध कार्यवाही होगी: मण्डलायुक्त

सहारनपुर। मण्डलायुक्त लोकेश एम0 ने कहा कि जल के समुचित सद्पुयोग के लिए नहरों पर चौक डैम बनाये जाने प्रस्ताव जाए। उन्होने निर्देश दिए कि नहरों, रजबाहे आदि की सिल्ट सफाई के दौरान निकाले गये सिल्ट का निस्तारण कैसे किया जाता है इसकी भी जांच की जाए। उन्होने निर्देश दिए कि निवेश मित्र पोर्टल और झटपट पोर्टल पर 20 किलोवाट और इससे ऊपर के विद्युत कनेक्शन के लिए आवेदन स्वीकृत हुए है, उन्हे विद्युत आपूर्ति हो गयी है अथवा नहीं। पोर्टल पर कोई भी आवेदन अथवा शिकायत लम्बित न रहे। उन्होने निर्देश दिए कि विभिन्न प्रकार की पेंशनों में जो लाभार्थी अपात्र पाये गए है। उनकी पेंशन किस अधिकारी द्वारा स्वीकृत की गयी थी उसकी जांच कर रिपोर्ट प्रस्तुत करे। संबंधित अधिकारी और अपात्रों के के विरूद्ध कार्यवाही की जायेंगी।  अपात्र पेंशनधारियों से धनराशि की रिकवरी करायी जाएगी। उन्होंने कहा कि चीनी मिलें आगामी पेराई सत्र से पूर्व अपने क्षेत्रों की सड़कों को समयबद्ध ढंग से दुरूस्त करा लें। इसमें किसी भी स्तर पर लापरवाही न बरतें।

लोकेश एम0 आज सर्किट हाउस सभागार में मण्डलीय विकास कार्यों की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होने कहा कि लोक निर्माण विभाग नयी सडकों के निर्माण, चौडीकरण एवं सुदृढीकरण का कार्य निर्धारित समय सीमा तथा गुणवत्ता के साथ पूर्ण कराएं। मुख्य विकास अधिकारी भी अपनी तरफ से खराब अथवा टूटे मार्गों को ठीक कराने के लिए जिलाधिकारी के माध्यम से प्रस्ताव दें। उन्होने संयुक्त कृषि निदेशक को निर्देश दिए कि मण्डल के पात्र किसानों को किसान सम्मान निधि का लाभ दिलाना सुनिश्चित करें। इस कार्य में आधार कार्ड अथवा बैंक से संबंधित जो त्रुटियां है उन्हे जल्द से जल्द ठीक कराया जाए। किसान सहायक और लेखपालों का लक्ष्य निर्धारित कर उनकी जिम्मेदारी तय की जाए। पराली प्रबंधन के लिए किसानों को अधिक से अधिक जागरूक किया जाए और समितियों अथवा किसानों को कृषि यंत्र मुहैया कराए जाएं जिससे फसल अवशेष को भूमि में ही मिलाया जा सके। पराली प्रबंधन से संबंधित गाइडलाइन का अध्ययन कर मण्डल के निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष प्रगति लाएं। उन्होने अपर निदेशक पशुपालन को निर्देश दिए कि मण्डल की गौशालाओं में नियमित रूप से साफ-सफाई सुनिश्चित करायी जाए साथ ही लक्ष्य के अनुसार पशुओं का टीकाकरण एवं ईयर टैगिंग भी कराया जाए। 

मण्डलायुक्त ने तीनों जनपद के मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देश दिए कि खण्ड विकास अधिकारी से सर्वे करा कर किन नहरों पर चौक डैम बनाया जा सकता है। उन्होंने यह भी निर्देश दिए किसानों की समस्याओं का त्वरित निस्तारण करें तथा गन्ना भुगतान कराया जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि गन्ना भुगतान में लापरवाही करने वाली चीनी मिलों के विरूद्ध कार्यवाही की जाए। किसानों के हितार्थ चलाई जा रहीं योजनाओं का लाभ पात्र किसानों को मिलें। इसके लिए व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जाए।

लोकेश एम0 ने कहा कि मण्डल के प्रत्येक गांव के प्रत्येक परिवार में से कम से कम एक लाभार्थी का गोल्डन कार्ड बनाना सुनिश्चित करें। कोई भी परिवार ऐसा न हो जिसमें से एक भी व्यक्ति का गोल्डन कार्ड न बना हो। प्रत्येक विकास खण्ड के प्रत्येक गांव का सर्वे कराया जाए। उन्होने उप निदेशक पंचायत को निर्देश दिए कि मण्डल के सामुदायिक शौचालयों के बेहतर रख-रखाव व साफ-सफाई सुनिश्चित करें। कहा कि सामुदायिक शौचालयों के आस-पास भी सौन्दर्यीकरण कराया जाए। गावों में बनने वाले पंचायत भवनों के निर्माण में गुणवत्ता के साथ-साथ आकर्षक नक्शे का भी प्रयोग किया जाए। उन्होने जल निगम के अधिकारियों को निर्देश दिए कि अमृत योजना के तहत पेयजल स्कीम का ब्लू प्रिंट प्रस्तुत करें। 

मण्डलायुक्त ने कहा कि राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत अधिक से अधिक मानव दिवस सृजित किए जाएं। यह भी देखा जाए कि मण्डल गठित स्वयं सहायता समूहों में से कितने सक्रिय है। प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री आवास योजना से वन टांगिया लोगों को भी आच्छादित किया जाए। जल जीवन मिशन के अन्तर्गत बनने वाली पानी की टंकियों की डीपीआर बनाकर प्रस्तुत करें तथा समयबद्ध रूप से लक्ष्यों को पूरा किया जाए। 

बैठक में अपर आयुक्त प्रशासन डी0पी0सिंह, संयुक्त विकास आयुक्त सुनील कुमार श्रीवास्तव, नगर आयुक्त ज्ञानेन्द्र सिंह, मुख्य विकास अधिकारी सहारनपुर श्री विजय कुमार, मुजफ्फरनगर श्री आलोक यादव, शामली श्री शंभुनाथ तिवारी तथा संबंधित विभागों के मण्डलीय अधिकारीगण और कार्यदायी संस्थाओं के प्रतिनिधि उपस्थित रहें।