हिरोशिमा

हीरोशिमा नगरी में एक दिन,

हुआ तेज धमाका था।

सुन आवाज धमाके की,

कलेजा मानव का कांपा था।


देख तबाही का मंजर,

मानवता घबराई थी।

ना जाने किस करनी की,

निर्दोषों ने सजा पाई थी।


चिथड़े चिथड़े हुए नर नारी,

बच्चों की लाशों की ढेरी थी।

घर बंगले सब खाक हुए,

ये आफत बड़ी घनेरी थी।


नफरत की भीषण ज्वाला में,

हिरोशमा फिर धधक उठा।

अमेरिका के घिनौने कृत्य पर,

जग सारा फिर भड़क उठा।


लाखों निर्दोषों ने तब से,

अब तक जान गंवाई है।

कैंसर और अपंगता सी,

बीमारियां जन्म से पाईं हैं।


मानव है मानव का दुश्मन,

ये मानव ने दिखलाया था।

है कितना घातक मानव,

ये करके दिखलाया था।


युध्द से हल ना निकले कोई,

बात है ये बिल्कुल पक्की है।

बर्बादी का माई बाप है युद्ध,

इतिहास की गवाही सच्ची है।


हुई भूल जो अब तक हमसे,

आगे कभी ना करनी है।

हर मुश्किल का हल है चर्चा,

जो सदा शान्ति से करनी है।


स्वरचित

सपना (सo अo)

प्राoविo-उजीतीपुर

विoखo-भाग्यनगर

जनपद- औरैया