स्कूलों को खोलने का फैसला लेने के लिए दिल्ली सरकार करेगी विशेषज्ञ समिति का गठन

दिल्ली सरकार स्कूलों को खोलने का फैसला लेने के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन करेगी। समिति में शिक्षा और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी शामिल रहेंगे। समिति के अनुशंसा पर ही अंतिम निर्णय लिया जाएगा। शुक्रवार को दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की हुई बैठक में यह फैसला लिया गया। बैठक उपराज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में हुई। 

उन्होंने अधिकारियों को आदेश दिया कि स्कूलों को खोलने के लिए विशेषज्ञ समिति बनाई जाए, जो मानक संचालन प्रक्रिया तय करेगी। स्कूल खोलने के लिए दिल्ली सरकार ने सर्वे कराया था। इसमें 90 फीसदी अभिभावकों ने स्कूल खोलने पर हामी भरी थी। इसकी रिपोर्ट बैठक में रखी गई। रिपोर्ट पर चर्चा के बाद मानक संचालन प्रक्रिया बनाने के लिए कमेटी गठित की गई थी।  

अधिकारियों के साथ विशेषज्ञ समिति स्कूलों की तैयारियां, कर्मचारियों के टीकाकरण, संक्रमण की रोकथाम के उपाय आदि का मूल्यांकन करेगी। सभी हित धारकों की राय और सुझाव और समिति की राय के बाद ही  स्कूल खोलने पर अंतिम फैसला लिया जाएगा। राजधानी में कोरोना के हालात पर चर्चा करते हुए बैजल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना से हालात नियंत्रण में है। इसी स्थिति को कायम रखने के लिए सभी विभागों को साथ मिलकर काम करना होगा।

संक्रमण के स्वरूपों का पता लगाने के लिए जीनोम सीक्वेंसिंग बढ़ाने पर भी जोर दिया जाए। सार्वजनिक स्थलों और बाजारों में कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करने की भी हिदायत दी गई। साथ ही सभी लोगों का टीकाकरण और टेस्ट, ट्रैक और आइसोलेट की नीति को और अधिक प्रभावी रूप से लागू करने के लिए कहा गया।बैठक में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन, परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत, एम्स निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया, नीति आयोग के सदस्य( स्वास्थ्य) वीके पॉल, आईसीएमआर के डीजी बलराम भार्गव शामिल रहे। 

राजधानी में हालात काफी बेहतर : गुलेरिया

एम्स के निदेशक डॉक्टर गुलेरिया ने दिल्ली सरकार की तारीफ की और कहा कि राजधानी में कोरोना से हालात काफी बेहतर हैं। उन्होंने स्कूलों के छात्र-छात्राओं और शिक्षकों के टीकाकरण पर भी जोर दिया गया। इससे पहले उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बच्चों के माता-पिता से  सुझाव मांगे थे। अधिकतर अभिभावक स्कूल खोलने के पक्ष में थे। बृहस्पतिवार को वायरोलाजिस्ट डा. गगनदीप कंग ने कहा था कि शिक्षकों और अन्य कर्मचारियों के टीकाकरण के बाद स्कूलों को खोला जा सकता है। 

सीरो सर्वे होगा

बैठक में निर्णय लिया गया कि दिल्ली में कोरोना की स्थिति का आकलन करने के लिए नया सीरो सर्वे किया जाएगा। जिससे संक्रमण की सही स्थिति का आकलन किया जाएगा। बैठक में उपराज्यपाल ने अधिकारियों को आदेश दिया कि संक्रमण की स्थिति पर लगातार नजर रखें। बेड, दवाएं और ऑक्सीजन की पूरी व्यवस्था रहे। साथ ही सभी पात्र लोगों का जल्द से जल्द टीकाकरण किया जाए।