छोटे भाई बहनों का पेट भरने हेतु नाबालिग बच्ची से दुष्कर्म के बाद नवजात शिशु का जन्म

लखीमपुर खीरी। लाकडाउन, बेरोजगारी, गरीबी, भुखमरी से तंग , पिता की अनुपस्थिति में पांच छोटे भाई बहनों के पेट भरने हेतु नाबालिग, १५ वर्षीय पम्मी बदला हुआ नाम को मनचले बहला फुसला कर १०/२० रुपयों की खातिर दुष्कर्म के बाद जुलाई में अपनी बेटी को जन्म देने एवं मरने के पश्चात एक माह बाद नवजात शिशु की मौत से हुए हंगामे के बीच पुलिस ने नवजात शिशु का डीएनए परीक्षण हेतु शव का पंचनामा भरने के पश्चात पोस्टमार्टम हेतु जिला मुख्यालय भेज दिया है। डरी,सहमी नाबालिग पम्मी ने कहा कि उत्तम साथ में आया है, सुलह के लिए कह रहा है,और पूरे परिवार को मार डालने की धमकी दे रहा है। पोस्टमार्टम कर रहे चिकित्सक ने नव जात शिशु के डीएनए टेस्ट के लिए सैंपल ले लिया है। घटना के संबंध में बताते हैं कोतवाली धौरहरा के अन्तर्गत ग्राम वाली निवासी एक पिता मजदूरी करने पंजाब जाता था । परिवार की पूरी जिम्मेदारी बड़ी बहन १५ वर्षीया पम्मी की थी। पिता द्वारा मजदूरी का पैसा समय से न भेज पाने के कारण गांव के ही मन चले उत्तम और तुफैल पम्मी की मजबूरी का फायदा उठाकर उसको गन्ने के खेत में ले जाकर दुष्कर्म करते थे। पम्मी के गर्भवती होते ही उत्तम पम्मी को बराबर यकीन दिलाता था कि मैं तुमसे विवाह कर लूंगा। पम्मी की बच्ची की पैदाइश के बाद भी उत्तम ने पम्मी से विवाह नहीं रचाया। बीती रात्रि नवजात शिशु की अचानक मौत हो गई, मौत के बाद गांव में हंगामा हो गया और पुलिस ने नव जात शिशु के बाप की पहचान हेतु डीएनए परीक्षण हेतु पोस्टमार्टम हेतु जिला मुख्यालय भेज दिया। मजे की बात तो यह है कि गरीब मजदूर पिता पोस्टमार्टम हाउस के बाहर बार बार बेहोश हो रहा था।