फतेहपुर जिले की सड़कों की बदहाली से प्रशासन है बेखबर

फतेहपुर : जिले की सड़कें इतनी बदहाल हालत में है की नगर वासी और जिले के गांव वाशी अब जोखिम उठाकर सड़कों पर चलने को मजबूर है सभी ने जिले की सड़कों की बदहाली को नेताओं तक बल्कि कहा जाए तो प्रशासन तक पहुंचाने का पूरा प्रयास कर लिया है फिर भी सड़कों के अधूरे काम और फतेहपुर नगर के विकास को लेकर कोई भी जिम्मेदारी नहीं दिखाई जा रही है जैसे कि पब्लिक की शिकायतों की पुकार प्रशासन तक पहुंच ही नहीं रही ऐसा लग रहा है जैसे प्रशासन गूंगा और बहरा बना बैठा है वही ठेकेदारों की बात करें तो ठेकेदारों ने बदहाल सड़कों को और भी बदल बना कर अधूरे काम के साथ छोड़ दिया है सड़कों की हालत ऐसी है की जगह जगह खड्डे और जो भी काम विकास तौर पर कराए जा रहे हैं उनका निर्माण कार्य भी वैसे का वैसा ही अधूरा पड़ा हुआ है जिससे नगर वासियों में आने जाने की समस्या को लेकर जान की जोखिम का डर सा माहौल बना रहता है फिर भी जरूरी कामों को धीमी गति से किया जा रहा है और शहर के कई सड़कों में काम को शुरुआती तौर पर अधूरा ही छोड़ दिया गया जिसकी वजह से नगरवासी कभी-कभी दुर्घटना का शिकार भी हो जाते हैं फिर भी नगर की सड़कों और चैराहों के काम को लेकर किसी भी तरह की गंभीरता नहीं दिखाई जा रही है नगर वासियों के मन में संदेह उत्पन्न ना हो रहा है की जो भी विकास कार्य किया जा रहा है महज एक दिखावा है वही बात करें तो कुछ महीनों में विधानसभा के चुनाव भी होने को है ऐसे में भाजपा सरकार को लेकर तरह-तरह के सवाल भी उठ रहे हैं पर इसका जवाब किसी के पास नहीं है क्योंकि लोगों के मन में खुद ही संदेह उत्पन्न हो चुका सड़कों का निर्माण कार्य जिस माध्यम गति से किया जा रहा है अगर देखा जाए तो इस गति से कार्य को पूरा होने में दो चुनाव और भी निकल जाएंगे चुनाव पार्टियां जिले के विकास का नारा तो लगाती है पर असल में अब लोगों का कहना है की शहर की बदहाली को दूर करना किसी भी चुनाव पार्टियों के हाथ में नहीं हमें अपने हिसार में ऐसे ही जीने और रहने की आदत डालनी होगी।