कर्नाटक पुलिस ने मैसूर गैंगरेप मामले का पर्दाफाश किया, 5 गिरफ्तार

मैसूर। कर्नाटक में पुलिस ने मैसूर सामूहिक दुष्कर्म मामले का पदार्फाश किया है और शनिवार को पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इस पर मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई को जानकारी देने पहुंचे कर्नाटक के गृह मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र ने कहा कि अपराधियों को पकडऩे के लिए अभियान सफल रहा और वह दोपहर तक विवरण का खुलासा करेंगे। पुलिस सूत्रों के अनुसार, चार आरोपियों को तमिलनाडु के सत्यमंगला में गिरफ्तार किया गया, जबकि पांचवें को कर्नाटक के चामराजनगर में पकड़ा गया। तमिलनाडु के चार आरोपियों में से तीन की आपराधिक पृष्ठभूमि थी। पहले यह संदेह था कि सभी आरोपी केरल और तमिलनाडु के इंजीनियरिंग के छात्र हैं। हालांकि, वे अपराध में शामिल नहीं थे। बस टिकट सुराग पर काम कर रही एक अन्य विशेष टीम पांचों दोषियों को पकडऩे में कामयाब रही। पांच विशेष टीमों ने अलग-अलग एंगल से मामले की जांच की। पुलिस के अनुसार गिरफ्तार किए गए सभी आरोपी कुली निकले। वे अक्सर मैसूर की सब्जी मंडी में केला बेचने आते थे। आरोपी केले बेचने के बाद ललिताद्रिपुरा के सुनसान इलाके में शराब का सेवन करते थे, जहां मंगलवार को यह घटना हुई। उन्होंने देखा कि पीडि़ता अपने पुरुष मित्र के साथ क्षेत्र में नियमित रूप से आती रहती है। उन्होंने तीन दिनों तक जोड़े का पीछा किया और चौथे दिन उन्होंने उन पर हमला किया। आरोपी पहले तो कपल को लूटना चाहता था, लेकिन बाद में पीडि़ता के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। पुलिस ने अपराध स्थल को स्कैन करने के बाद तमिलनाडु के तलवाड़ी में खरीदा हुआ एक बस टिकट पाया और पीडि़ता के बयान दर्ज करने से इनकार करने के बावजूद जांच शुरू की। अपराध स्थल से बीयर की बोतलें और डिब्बे हासिल करने वाले जांचकर्ताओं ने शराब की दुकान का पता लगाया और सीसीटीवी फुटेज हासिल की। विशेष टीमों ने स्थानीय अपराधियों के बारे में तमिलनाडु पुलिस से जानकारी प्राप्त की और मैसूर में प्राप्त वीडियो फुटेज सहित विवरणों का मिलान किया। जांच में यह भी पता चला कि आरोपी आदतन अपराधी थे। पुलिस सूत्रों ने कहा कि गिरोह ने पांच महीने पहले मैसूर शहर के कुवेम्पुनगर इलाके में एक और दुष्कर्म किया था।