SBI ग्राहकों को टारगेट कर रहे चाइनीज हैकर्स

नई दिल्ली : आज के समय में ऑनलाइन फ्राॅड पहले की अपेक्षा काफी बढ़ गया है। हैकर्स लोगों के अकाउंट में सेंध लागने के लिए नए-नए हथकंडे अपना रहे हैं। अपने ग्राहकों को इन ऑनलाइन फ्राॅड से सतर्क करने के लिए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया कुछ जरूरी जानकारी साझा की है। बैंक ने कहा कि ऑनलाइन फ्राॅड से बचने के लिए जरूरी है कि ग्राहक अपनी पर्सनल डीटेल्स किसी से भी साझा ना करें। आइए जानते हैं कि SBI ने ग्राहकों को क्या कुछ बताया है। 

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ग्राहकों से कहा है कि वह किसी भी अनजान जगह से मोबाइल एप डाउॅनलोड ने ना करें। बैंक के अनुसार किसी भी अनजान एप को डाउनलोड करने से आपके मोबाईल की प्राइवेट सिक्योरिटी खतरे में पड़ सकती है। और इसके जरिए हैकर्स आपके अकाउंट पर धावा बोल सकते हैं। ऐसे में जरूरी है कि कस्टमर सिर्फ वैरिफाइड सोर्स से ही मोबाइल एप को डाउनलोड करें। 

पिछले सप्ताह साइबर सिक्योरिटी से जुड़े एक रिसर्च में कहा गया था कि चाइनीज हैकर्स इस समय SBI कस्टमर को टारगेट कर रहे हैं। ज्यादातर मामलों में देखा गया है कि हैकर्स KYC अपडेट के बहाने लोगों की बचत पर हमाला बोल रहे हैं। दिल्ली की CyberPeace कंपनी ने अपनी रिसर्च में पाया कि हैकर्स लोगों को 50 लाख रुपये जैसे ऑफर देकर उनके बैंक अकाउंट की डीटेल्स ले रहे हैं। ये ऑफर देते समय बैंक SBI ग्राहकों से जरूरी जानकारी भी मांग लेते हैं। इसके अलावा मार्च में देखा गया था कि SBI ग्राहकों को वाट्सएप मैसेज के साथ-साथ टेक्स्ट मैसेज भी किया जा रहा है। जहां उन्हें अलग-अलग ऑफर दिया जा रहा है।