श्रीलंकाई कोच मिकी आर्थर : भारतीय टीम 'IPL ऑल स्टार्स XI' जैसी है

भारतीय क्रिकेट टीम को श्रीलंका दौरे पर अगले सप्ताह से लिमिटेड ओवर की सीरीज खेलनी है। श्रीलंका के पूर्व कप्तान अर्जुन रणतुंगा ने हाल में कहा था कि इस दौरे पर आई भारतीय टीम दूसरे दर्जे की टीम है और इस टीम के साथ खेलना श्रीलंकाई टीम का अपमान है। लेकिन अब श्रीलंक के हेड कोच मिकी आर्थर का मानना है कि ऐसा नहीं है। 

कोच ने कहा है कि उनकी टीम इस भारतीय टीम को आगामी लिमिटेड ओवर की सीरीज में हल्के में नहीं लेगी। सीरीज की शुरुआत 13 जुलाई से होनी थी, लेकिन श्रीलंका के बैटिंग कोच और दूसरे सदस्य के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद सीरीज को रिशेडयूल कर दी गई। यह सीरीज अब 18 जुलाई से खेली जाएगी। आर्थर का मानना है कि भारत की मौजूदा टीम आईपीएल ऑल स्टार्स XI' जैसी है। दोनों टीमें पहले तीन मैचों की वनडे सीरीज खेलेगी और फिर इतने ही मैचों की टी20 सीरीज खेली जाएगी।  

स्पोटर्सस्टार के साथ एक इंटरव्यू में कोच आर्थर ने कहा, ' हम इस समय बदलाव के दौर में हैं। हम युवा खिलाड़ियों की खोज में हैं, ताकि टीम के लिए बेस्ट कॉम्बिनेशन बनाई जा सके। हम किसी भी तरह के भ्रम में नहीं हैं क्योंकि हम जानते हैं कि यह एक शानदार भारतीय टीम है। भारतीय टीम के पास काफी सारे अच्छे क्रिकेटर हैं। यह एक आईपीएल ऑल-स्टार्स इलेवन की तरह है। वे खिलाड़ियों का एक अविश्वसनीय ग्रुप हैं और हमारे लिए, यह युवा खिलाड़ियों को खोजने और टीम के लिए सही संभावित संयोजन बनाने की कोशिश करना है। इंटरनेशनल कोच के रूप में मेरे लिए पिछले 12 वर्षों में यह सबसे कठिन दौरों में से एक है।' c

श्रीलंका को हाल में इंग्लैंड दौरे पर टी20 सीरीज में क्लीन स्वीप का सामना करना पड़ा था, जबकि तीन मैचों की वनडे में उसे 0-2 से सीरीज गंवानी पड़ी थी। कोच ने कहा कि टीम के लिए वह काफी चुनौतीपूर्ण दौरा था और टीम के साथ सबसे गलत बात केवल यह हुई कि निरोशन डिकवेला, कुसल मेंडिस और दानुष्का गुणातिल्का को बायो बबल का नियम तोड़ने के कारण स्वदेश भेज दिया गया।

आर्थर ने कहा कि उनके लिए इंटरनेशनल कोच के रूप में यह एक सबसे कठिन दौरों में से एक था। उन्होंने कहा, ' यह अविश्वसनीय रूप से चुनौतीपूर्ण था। हम 2023 विश्व कप के लिए एक विजन प्राप्त करने की कोशिश कर रहे थे। हम युवा खिलाड़ियों को कुछ मौके देने की कोशिश कर रहे थे। लेकिन इसके साथ ही आपको कुछ अनुभवी खिलाड़ियों की भी आवश्यकता है। फिर हमने 1, 4 और 5 नंबर खो दिया, जब उन्होंने बाहर जाने और डरहम घूमने का फैसला किया। यह वास्तव में हमारे लिए कठिन था। यह मेरे अब तक के सबसे कठिन दौरों में से एक था।'