भारतीय रेलवे को फंड की जरूरत, बेचेगी हावड़ा स्टेशन के पास की जमीन

नई दिल्ली : भारतीय रेल, हावड़ा स्टेशन के पास की जमीन को बेचने वाली है। यह जमीन हावड़ा स्टेशन से लगभग 1.5 किमी दूर है और 20 मीटर चौड़े राजमार्ग से लगी है। रेलवे ने फंड जुटाने के मकसद से ये फैसला लिया है। भारतीय रेल के अधिकारियों ने बताया कि यह भूखंड 88,300 वर्ग मीटर का है और हुगली नदी के किनारे है। अधिकारियों ने बताया कि इसका आरक्षित मूल्य 448 करोड़ रुपये रखा गया है और इसे नीलामी पर रखा जाएगा। 

29 अगस्त तक निविदा जमा करने की डेडलाइन: एक अधिकारी ने कहा, "रेल भूमि विकास प्राधिकरण (आरएलडीए) ने हावड़ा के साल्ट गोला में खाली रेलवे की जमीन को लीज पर देने के लिए बोलियां आमंत्रित की हैं। इसके लिए निविदा 29 अगस्त तक जमा करायी जा सकती है। आरएलडीए के उपाध्यक्ष वेद प्रकाश डुडेजा ने कहा कि इसे खरीदने वाला वाटर पार्क सुविधाएं भी विकसित कर सकता है।

देश में 43 हजार हेक्टेयर खाली जमीन: भारतीय रेल के पास पूरे देश में 43 हजार हेक्टेयर खाली जमीन पड़ी है। आरएलडीए इस समय 85 रेलवे कालोनी विकास परियोजनाओं को हाथ में लिए है। उसने हाल ही में गुवाहाटी और सिकंदराबाद में तीन रेलवे कालोनियों के पुनर्विकास के पट्टे आवंटित किए हैं।

आपको बता दें कि भारतीय रेलवे अलग-अलग तरीके से फंड में जुटा है। इसी के तहत जनवरी महीने में भारतीय रेलवे वित्त निगम यानी आईआरएफसी का आईपीओ भी लाया गया था। आईआरएफसी का आईपीओ 4,600 करोड़ रुपये का था। यह रेलवे की गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी का पहला आईपीओ था।