श्रीलंका से तीसरा वनडे हारी टीम इंडिया, फिर भी खुश दिखे कप्तान शिखर धवन


अनुभवी सलामी बल्लेबाज शिखर धवन की अगुवाई में भारतीय टीम का शुक्रवार को श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज में सूपड़ा साफ करने का सपना अधूरा रह गया और मेजबान टीम ने तीसरा मुकाबला 3 विकेट से अपने नाम किया। वनडे सीरीज पहले ही अपने नाम कर चुकी टीम इंडिया ने इस मैच में पांच नए खिलाड़ियों को डेब्यू करने का मौका दिया। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 225 रन बनाए, जिसके जवाब में श्रीलंका ने अविष्का फर्नांडो और भानुका राजपक्षा की शतकीय साझेदारी के दम यह लक्ष्य सात विकेट के नुकसान पर हासिल कर लिया। भारत बेशक यह मैच हार गया हो, लेकिन इसके बावजूद कप्तान धवन कई बातों को लेकर खुश नजर आए।

उन्होंने मैच खत्म होने के बाद कहा कि, 'इस मैच का नतीजा हमारे मुताबिक नहीं रहा। हमने कुछ नए खिलाड़ियों को आजमाया। हमें अच्छी शुरुआत मिली, लेकिन फिर हमने बीच के ओवरों में कई विकेट गंवा दिए। हमने आखिर में 50 रन कम बनाए। मुझे इस बात की बेहद खुशी है कि इस मैच में कई खिलाड़ियों ने डेब्यू किया, क्योंकि हर कोई इतने लंबे समय से बायो बबल में था। सीरीज जीतने के बाद हमारे पास यह मौका था कि हम दूसरे खिलाड़ियों को खिलाएं, जिन्हें अब तक मौका नहीं मिला है। मैं हमेशा विश्लेषण करता हूं कि कहां सुधार कर सकता हूं और रणनीतियों में बेहतर हो सकता हूं। इस मैच के बाद हमें टी-20 सीरीज का बेसब्री से इंतजार है। कम स्कोर बनाने के बाद भी हम पॉजिटिव थे कि हम लक्ष्य का बचाव कर सकते हैं। लड़कों ने अच्छी फाइट दी और आखिर में यह मैच दिलचस्प रहा। हमें हमेशा सीखते रहना है।'

इस मैच में भारत की तरफ से पृथ्वी शॉ (49 गेंदों पर 49 रन), अपना पहला मैच खेल रहे संजू सैमसन (46 गेंदों पर 46 रन) और सूर्यकुमार यादव (37 गेंदों पर 40 रन) ने प्रभावशाली शुरुआत की, लेकिन तीनों बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे। शॉ और सैमसन ने दूसरे विकेट के लिए 74 रन की साझेदारी की। श्रीलंका की तरफ से लेग स्पिनर अकिला धनंजय (44 रन देकर तीन) और और बाएं हाथ के स्पिनर प्रवीण जयविक्रमा (59 रन देकर तीन) ने भारतीय पारी समेटने में अहम भूमिका निभाई। भारतीय स्पिनरों में राहुल चाहर (54 रन देकर तीन) ने प्रभावित किया। श्रीलंका की ही तरह भारत ने भी पांचवें ओवर से दोनों छोर चाहर और कृष्णप्पा गौतम (49 रन देकर एक) के रूप में स्पिन आक्रमण लगा दिया था।