नारी स्मिता फाउंडेशन ने रोपित कर दो सैकड़ा पौधे

-कंपोजिट आदर्श विद्यालय, निबाहरा मसवानी में आयोजित हुआ कार्यक्रम

-पौधरोपण के साथ-साथ संरक्षण भी आवश्यक : विक्रम सिंह

-वृक्ष ऑक्सीजन का एकमात्र स्रोत स्मिता सिंह

फतेहपुर। नारी स्मिता फाउंडेशन द्वारा आज शहर के मसवानी स्थित कम्पोजिट आदर्श विद्यालय में वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में सदर विधायक विक्रम सिंह रहे। कार्यक्रम का आयोजन फाउंडेशन के सचिव स्मिता सिंह द्वारा किया गया। कार्यक्रम में दो सैकडा के करीब पौधों को रोपित कर बस्ती वासियों में वितरित भी किया गया। आपको बताते चलें कि विगत तीन वर्षों से फतेहपुर जनपद को हरा-भरा बनाए रखने के उद्देश्य से नारी स्मिता फाउंडेशन हर वर्ष हजारों पौधों का रोपण करता चला रहा है। इसी क्रम में इस वर्ष भी पांच हजार वृक्षारोपण का लक्ष्य लिए नारी स्मिता फाउंडेशन लक्ष्य पूर्ति की दिशा में अग्रसर है। श्रीमती सिंह की माने तो इस वर्ष अब तक 1500 के करीब पौधों को रोपित किया जा चुका है। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में उपस्थित सदर विधायक विक्रम सिंह ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को अपने जीवन काल में अधिक से अधिक पौधे रोपित करना चाहिए। पौधे ही एकमात्र विकल्प है जोकि कार्बन डाइऑक्साइड लेकर ऑक्सीजन पर्यावरण में मुक्त करता है। उन्होंने कहा कि केवल पौधरोपण ही उद्देश्य नहीं पौधों की सुरक्षा भी जिम्मेदारी होनी चाहिए। वहां मौजूद समस्त अभिभावकों एवं बच्चों से कहा कि आप लोग एक-एक पौधा गोद अवश्य लें। विद्यालय हरा भरा रहेगा तो बच्चों को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन मिलती रहेगी। उन्होंने कई उदाहरण देते हुए वृक्षों की महत्ता पर प्रकाश डाला। इसके अलावा यूथ आईकॉन अनुराग श्रीवास्तव ने भी पर्यावरण को जल संरक्षण के साथ जोड़कर समाज को नई दिशा प्रदान की जिससे पौधों की अधिकता में वृद्धि हो सके। प्राथमिक विद्यालय की इंचार्ज चंपा शर्मा ने आए हुए अतिथियों का आभार ज्ञापित करते हुए सभी पौधों के संरक्षण की जिम्मेदारी भी ली। कार्यक्रम का कुशल संचालन श्रेय शुक्ला ने किया। इस अवसर पर सुशील तिवारी, चंपा शर्मा, पूनम अवस्थी, मसूद आलम, ज्योत्सना गुप्ता, वंदना द्विवेदी, आशा सिंह, राधा अवस्थी, कौशिकी सिंह, नीरजा चौहान, भरत श्रीवास्तव, विवेक मिश्रा, राजकुमार निषाद, प्रियांशु श्रीवास्तव, एकता गुप्ता, सुधांशु सिंह, शत्रुघ्न, अमन कुमार, आचार्य रामनारायण, योगाशु श्रीवास्तव, सुमित द्विवेदी आदि मौजूद रहे।