उ.प्र. रानी लक्ष्मी बाई महिला एवं बाल सम्मान कोष की बैठक सम्पन्न

बहराइच । उत्तर प्रदेश रानी लक्ष्मी बाई महिला एवं बाल सम्मान कोष के सम्बन्ध में बुधवार को देर शाम कलेक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी डॉ दिनेश चन्द्र की अध्यक्षता में जिला संचालन समिति की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में जघन्य अपराध से पीड़ित महिलाओं को आर्थिक सहायता दिये जाने के सम्बन्ध मे प्राप्त प्रकरणों के स्वीकृति के सम्बन्ध में विचार-विमर्श कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिये गये। 

जिलाधिकारी द्वारा रानी लक्ष्मी बाई महिला एवं बाल सम्मान कोष के नोडल पुलिस अधिकारी को निर्देशित किया गया कि दहेज हत्या, एसिड अटैक, पाक्सो एक्ट से सम्बन्धित समस्त एफआईआर को समय से योजना के पोर्टल पर अपलोड कराया जाय तथा चारसीट की कार्यवाही भी समय से पूर्ण की जाय। नोडल मेडिकल अफसर को निर्देशित किया गया कि उनके पोर्टल पर लम्बित समस्त प्रकरणों को प्राथमिकता के आधार पर दो दिवस के अन्दर निस्तारित करें ताकि पीड़िता को आर्थिक सहायता समय से उपलब्ध करायी जा सके। जिला प्रोबेशन अधिकारी को निर्देश दिये गये कि नोडल पुलिस अफसर एवं नोडल मेडिकल अफसर से नियमित अन्तराल पर समन्वय स्थापित कर लम्बित प्रकरणों को निस्तारित कराने हेतु अनुरोध करते रहे। जिला प्रोबेशन अधिकारी को निर्देश दिये गये कि पीड़िताओं के बैंक से सम्बन्धित समस्याओं के लिए लीड बैंक प्रबन्धक से समन्वय स्थापित कर समय से समस्या का समाधान कराये। 

इसके अलावा कोविड-19 के संक्रमण से अनाथ/प्रभावित हुए बच्चों के सम्बन्ध में माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के कुशल निर्देशन में संचालित मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के सम्बन्ध में जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक के दौरान जिला प्रोबेशन अधिकारी द्वारा बताया गया कि योजना अन्तर्गत 25 बच्चों को चिन्हित किया गया है। टास्क फोर्स द्वारा निर्णय लिया गया कि चिन्हित किये गये बच्चों की शिक्षा व्यवस्था के साथ अनुमन्य सभी सरकारी योजनाओं से अच्छादित किया जाय। जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिये गये कि पात्र बच्चों का चिन्हांकन तेजी से किया जाय जिससे जिले मे कोई भी पात्र बच्चा योजना का लाभ प्राप्त करने से वंचित न रहे जाय। 

इस अवसर पर सीडीओ कविता मीना, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्रीमती सिखा यादव, एसडीएम सदर सौरभ गंगवार आईएएस,नोडल पुलिस अफसर, सीओ सिटी विनय कुमार दुबे, सीएमओ डा. राजेश मोहन श्रीवास्तव, नोडल मेडिकल अफसर डा. अंजू श्रीवास्तव, लीड बैंक प्रबन्धक अमित गौरव, संयुक्त निदेशक अभियोजन मंजू त्रिवेदी, वरिष्ठ कोषाधिकारी अशोक कुमार प्रजापति, जिला समाज कल्याण अधिकारी आर.पी. सिंह, जिला प्रोबेशन अधिकारी विनय कुमार सिंह, महिला शक्ति केन्द्र के कर्मचारी, बाल संरक्षण अधिकारी वनस्टाप सेन्टर की मैनेजर सहित अन्य सम्बन्धित मौजूद रहे।