तेज वाहन चा‌लकों पर प्रशासनिक नकेल कसने की उठी मांग

दुल्लहपुर/गाज़ीपुर। क्षेत्र के सिखड़ी बाजार में शुक्रवार की सुबह करीब साढ़े नौ बजे उस वक्त देखने वालों की आंखें फटी की फटी रह गई जब हंसराजपुर की तरफ़ से एक टैंपो चालक अपना टैंपू सौ से अधिक की रफ्तार से सिखड़ी बाजार में बने ब्रेकर को पार करते हुए निर्भीकता से निकल गया। गौरतलब है कि मरदह तिरकारीपुर(हमीद मार्ग) पर स्थित सिखड़ी बाजार में महामना पंडित मदन मोहन मालवीय इ०का०स्थित है। जहां पढ़ने वाले विद्यार्थियों की संख्या अढ़ाई हजार से ऊपर है। छुट्टी के समय छात्र छात्राओं  की भारी भीड़ के मद्देनजर विद्यालय के मुख्य द्वार के सामने मान्यता प्राप्त ठोकर बनवाया गया है।ताकी किसी प्रकार का सड़क हादसा न हो सके। लेकिन दो पहिए से लगायत चार पहिए संग टैंपू चालक नशा के  सेवन धड़ल्ले से उड़ा रहे गाड़ियां लोगों को सम्हलने का मौका देना नहीं चाहते। वाहन चालक घटनाओं से बेफिक्र अपना वाहन आवश्यकता से अधिक हवा में उड़ाते हुए मौत को खुली चुनौती देने से बाज नहीं आ रहे। शुक्रवार की सुबह एक टैपू चालक की‌ हरकत बड़ी घटना की तरफ इशारा करने और लोगों को दांतों तले उंगली दबाने के लिए बाध्य करदी।  संयोग ठीक था कि कोरोना के चलते विद्यालय बंद था नहीं तो किसी बड़ी हादसे से मुकरा नहीं जा सकता था। छात्रों के अभिभावकों सहित अन्य लोगों ने शासन-प्रशासन से ऐसे वाहन चा‌लकों पर रोक लगाए जाने के साथ ही इलाकाई पुलिस की मुकम्मल व्यवस्था किए जाने की मांग की है।