हरियाणा : विधायकों ने उठाई शैलजा को हटाने की मांग, हुड्डा ही बनेंगे कांग्रेस के कर्णधार

 

हरियाणा में कांग्रेस के कर्णधार पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ही बनेंगे। कुल 16 विधायकों ने पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व को यह साफ कर दिया है। साथ ही यह भी जता दिया है कि सूबे में पार्टी बार-बार प्रयोग न करे। पड़ोसी राज्य पंजाब का हवाला देते हुए विधायकों ने एक सुर में कहा कि वहां कांग्रेस तभी सत्ता में आई जब पार्टी ने कैप्टन अमरिंदर सिंह को पूरी तरह से काम करने का मौका दिया।

विधायकों ने कहा कि हरियाणा में सत्ता लाने के लिए अभी से काम करना पड़ेगा अन्यथा चुनाव का इंतजार करते रहे तो देर हो जाएगी। उन्होंने कहा कि उनकी अनदेखी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। संगठन बनेगा तो उसमें विधायकों की राय ली जाएगी। यही नहीं, नया अध्यक्ष बनाना होगा तो भी विधायकों की राय जरूरी है। मंगलवार को पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल को मिल कर हुडडा समर्थक बाकी विधायकों ने यह स्पष्ट कर दिया है।

इस घटनाक्रम से पहले पार्टी के हरियाणा प्रभारी विवेक बंसल पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा के दिल्ली आवास पर लंच करने के लिए गए। यहां पर मौजूद विधायकों से बंसल ने बातचीत की और उनकी शिकायतों पर संज्ञान भी लिया। विधायकों ने एक सुर में कहा कि संगठन विधायकों की अनदेखी करके नहीं चल सकता। मंगलवार को मिलने वाले विधायकों में गीता भुक्कल, राव दान सिंह, शकुंतला खटक, मोहम्मद इलियास, मोमन खान, अमित सिहाग और जयवीर वाल्मीकि शामिल थे।

हरियाणा कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन की मांग को लेकर घमासान है। सोमवार को भी हरियाणा कांग्रेस के 10 विधायकों ने संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल से नई दिल्ली में मुलाकात की थी। हरियाणा में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर विधायक आलाकमान पर दबाव बना रहे हैं। सोमवार को 10 विधायकों ने कुमारी शैलजा के खिलाफ एकजुट होकर केसी वेणुगोपाल से मुलाकात की और हरियाणा में नेतृत्व परिवर्तन की मांग उठाई। इन विधायकों की मांग है कि शैलजा को हटाकर हरियाणा में कांग्रेस की कमान हुड्डा को सौंपी जाए।