गुरू

गुरु बिन ज्ञान ना होत है गुरु पूज्य विद्वान‌।

गुरु ना मिलते  जीवन में दूर ना होता अंधकार।


गुरु के द्वार में जाकर जगमग हुआ संसार।

सदगुणो का भंडार मिला दूर हुए मन के पाप।


गुरु भक्ति अनंत है गुरु ही ईश्वर स्वरूप।

सच्चाई का मार्ग दिखाएं नेक राह में मन चलता जाए।


बचपन गुजरा जवानी आई जीने की हमको सीख मिली।

 गुरु के पद चिन्हों पर चलने की एक नई राह मिली।


गुरु की महिमा अपरंपार है गुरु ही श्रेष्ठ  विद्वान।

गुरु के आशीर्वाद से जीवन हो जाए पार।


    शैलेन्द पयासी