निर्माण और विध्वंस

प्रेम बनाए रखने के लिए

करने पड़ते हैं

निरंतर प्रयास,

नफरत तो गुस्से में आकर

हो ही जाती है।


शान्ति बनाए रखने के लिए

करने पड़ते हैं

निरंतर प्रयास,

कलह तो छोटी-छोटी बातों

पर हो जाती है।


भाईचारा बनाए रखने के लिए

करने पड़ते हैं 

निरंतर प्रयास,

बैर-विरोध तो छोटी-छोटी बातों

पर हो जाते हैं।


सच ही कहते हैं,

अच्छे निर्माण के लिए लगता है

बहुत सारा समय,

विध्वंस तो मिनटों में ही

हो जाता है।


जितेन्द्र 'कबीर'

संपर्क सूत्र - 7018558314