गुरु पूर्णिमा

मैं कैसे अभिव्यक्त करूँ

कैसे करूँ परिभाषित

'सर'आपके सामने

सभी शब्द

सभी परिभाषाएं

छंद अलंकार सारे

संधि-समास व रस

सब तुच्छ नजर

आते हैं।

मैं एकलव्य सी

श्रद्धा विश्वास

रखती हूँ

मुझे आपमें

पांचाली के

कृष्ण नजर

आते हैं।

गरिमा राकेश गौतम

कोटा राजस्थान