बढ़ रही तेल की कीमतों में आज लगा ब्रेक, जानें अपने शहर का ताजा रेट

नई दिल्ली : लगातार बढ़ रही तेल की कीमतों में आज इजाफा नहीं देखने को मिला। इंडियन ऑयल कॉपोर्रेशन के अनुसार, दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 97.50 रुपये और डीजल की कीमत 88.23 रुपये प्रति लीटर पर अपरिवर्तित रही। दिल्ली में जून में अब तक पेट्रोल का मूल्य 3.27 रुपये और डीजल की कीमत 3.08 रुपये बढ़ चुकी है। इससे पहले मई में पेट्रोल 3.83 रुपये और डीजल 4.42 रुपये महँगा हुआ था।

दूसरे शहरों में भी कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ। मुंबई में पेट्रोल 103.63 रुपये और 95.72 रुपये प्रति लीटर के भाव बिका। चेन्नई में एक लीटर पेट्रोल 98.65 रुपये का और डीजल 92.83 रुपये का बिका। कोलकाता में पेट्रोल 97.38 रुपये और डीजल 91.08 रुपये प्रति लीटर मिला। 

देश के अलग-अलग हिस्सों में इस समय पेट्रोल और डीजल 100 रुपये प्रति लीटर के पार पहुंचकर अपने रिकार्ड स्तर पर बना हुआ है। केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने तेल की कीमतों में लगातार हो रहे इजाफा के कच्चे तेल की कीमतों में आई तेजी को बताया है। उन्होंने कहा, 'तेल की कीमतों में लगातार हो रहे इजाफा की बड़ी वजह इंटरनेशनल मार्केट में कच्चे तेल की कीमतों में आई तेजी है। भारत में यूज किया जाने वाला 80 प्रतिशत तेल हम आयात करते हैं।

शहर का नाम    पेट्रोल रुपये/लीटर    डीजल रुपये/लीटर

श्रीगंगानगर 108.67                   101.4

अनूपपुर          108.3                    99.31

रीवा                 107.93                    98.98

परभणी         105.92                   96.45

इंदौर                 105.79                    97.02

भोपाल         105.72                   96.93

जयपुर        104.17                    97.27

मुंबई          103.63                    95.72

बेंगलुरु           100.76                    93.54

पटना            99.55                    93.56

चेन्नई            98.65                    92.83

दिल्ली           97.5                    88.23

कोलकाता            97.38                   91.08

लखनऊ             94.7                    88.64

चंडीगढ़             93.77                    87.87

रांची                    93.25                    93.13

पेट्रोल व डीजल के दाम में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन और अन्य चीजें जोड़ने के बाद इसका दाम लगभग दोगुना हो जाता है। अगर केंद्र सरकार की एक्साइज ड्यूटी और राज्य सरकारों का वैट हटा दें तो डीजल और पेट्रोल का रेट लगभग 30 रुपये लीटर रहता, लेकिन चाहे केंद्र हो या राज्य सरकार, दोनों किसी भी कीमत पर टैक्स नहीं हटा सकती। क्योंकि राजस्व का एक बड़ा हिस्सा यहीं से आता है। इस पैसे से विकास होता है। बता दें राजस्थान में पेट्रोल और डीजल पर वैट की दर सबसे ऊंची है। उसके बाद मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना का नंबर आता है।