चिराग गुट ने बुलाई पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक

नई दिल्ली: लोक जनशक्ति पार्टी की लड़ाई अब चुनाव आयोग पहुंच चुकी है. इस बीच, चिराग गुट ने आज नई दिल्ली में पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई. बैठक की शुरुआत में ही चिराग पासवान ने बैठक में आए सभी सदस्यों को पार्टी संविधान की शपथ दिलाई. पार्टी नेताओं को शपथ इस बात की दिलाई गई कि पार्टी को हर हाल में सुरक्षित रखेंगे.

सूत्रों के मुताबिक इस बैठक का मकसद शक्ति प्रदर्शन कर यह साबित करना है कि लोजपा कार्यकारिणी के अधिकतर नेता चिराग पासवान के साथ हैं. बैठक से पहले ही चिराग पासवान के घर के बाहर कई पोस्टर और बैनर लगाए गए थे, जिसमें लिखा है,  'हां, हम चिराग पासवान के साथ हैं.' 

पार्टी सूत्रों ने बताया है कि इस बैठक में कार्यकारिणी सदस्यों ने चिराग पासवान पर भरोसा जताया है और पार्टी का वजूद बचाने के लिए उन्हें किसी भी तरह की कानूनी कार्यवाही के लिए अधिकृत किया है. कार्यकारिणी की बैठक में फैसला लिया गया कि चिराग पासवान बिहार में आशीर्वाद यात्रा निकालेंगे. यह यात्रा चिराग अपने पिता रामविलास पासवान की जयंती 5 जुलाई से बागी हुए चाचा पशुपति पारस के संसदीय क्षेत्र हाजीपुर से निकालेंगे.

लोजपा कार्यकारिणी की बैठक में सदस्यों ने पशुपति पारस पर उनके बयानों और कार्यों के लिए उनकी कड़ी निंदा की और आरोप लगाया कि उन्होंने जनता को  गुमराह करने का कार्य किया. बैठक में पारित प्रस्ताव में रामविलास पासवान को भारत रत्न दिए जाने की मांग भी की गई है. कार्यकारिणी ने चिराग पासवान के नेतृत्व में अपना समर्थन जताया है.

बता दें कि पारस गुट पहले ही लोकसभा अध्यक्ष से मिलकर पशुपति कुमार पारस को लोकसभा में संसदीय दल का नेता नियुक्त करने की मांग कर चुका है, जिसे स्पीकर ने मान भी लिया है. इसके बाद चिराग पासवान ने भी शनिवार को स्पीकर से मुलाकात कर अपना पक्ष रखा था.