मानसून के साथ आती हैं मच्छर जनित बीमारियां: डॉ अनिरुद्ध

लखनऊ। मानसून ने दस्तक दे दी है बरसात के इस मौसम ने चिलचिलाती धूप और गर्मी से कुछ राहत दी है लेकिन यह मौसम अपने साथ कई बीमारियां भी लेकर आता है, बरसात के कारण जगह-जगह पानी जमा हो जाता है, जिसमें मच्छर पनपते हैं। मच्छर मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया, जापानी इन्सिफेलाईटिस, फोड़े फुंसी जैसे रोगों का कारण बनते है, हमें अपने घरों में जैसे कूलर, खाली पड़े कंटेनर, पीपे, फिज की ट्रे, टायर, गमलों की ट्रे आदि में पानी इकठ्ठा नहीं होने देना चाहिए साथ ही घर व उसके आस-पास सफाई रखनी चाहिए ,कहीं भी कूड़ा इकठ्ठा नहीं होने देना चाहिए, यह सलाह केंद्रीय होम्योपैथिक परिषद् के पूर्व सदस्य डा. अनुरुद्ध वर्मा ने दी है, उन्होंने बताया कि इस मौसम में वायरल फीवर, सर्दी जुखाम तेजी से फैलता है और कंजेक्टवाईटिस होने की सम्भावना भी बढ़ जाती है, इस मौसम में उमस व नमी होती है जिसमें बैक्टीरिया, पैरासाईट, फंगस जल्दी पनपते हैं जो भोजन के साथ साथ त्वचा को भी संक्रमित करते हैं। ऐसे मौसम में ताजा एवं अच्छे से पका हुआ भोजन ही करना चाहिए, बरसात के मौसम में प्रदूषित पानी एवं बासी खाने की चीजों से कालरा, गेस्ट्रोइंट्राइटिस दस्त, पेचिस, फूड प्वायजनिंग बदहजमी का खतरा बढ़ जाता है, इस मौसम में हमें  खुले एवं कटे फल, बाहर की खुली चाट पकौड़ी एवं भोजन नहीं खाना चाहिए, डिब्बा बंद खाने के सामान से भी परहेज करना चाहिए, दस्त होने पर जीवन रक्षक घोल ओआरएस का उपयोग करना चाहिए ताकि शरीर में पानी की कमी न होने पाए, बरसात में सब्जियों में कीड़े लग जाते हैं इस लिए उन्हें  प्रयोग करने के पहले अच्छी तरह से धो लेना चाहिए। उन्होंने कहा इस मौसम में व्यक्तिगत साफ-सफाई का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए, बारिश के कारण भीगने की सम्भावना बढ़ जाती है इसलिए हमें भीगने के बाद बहुत अधिक तक गीले कपड़े नहीं पहनने चाहिए क्योंकि इससे चर्म रोग की संभावना बढ़ जाती है इसलिए भींगने के बाद तुरंत ही कपडे बदल लेने चाहिए और अपने शरीर को अच्छे से सुखा लेना चाहिए, डॉ वर्मा ने बताया कि पानी उबालकर ही पीना चाहिए, आसानी से पचने वाला भोजन करना चाहिये तथा हरी पत्तेदार सब्जियों के सेवन से बचना चाहिए, डा.वर्मा ने  बताया कि आज हम कोरोना संक्रमण से जूझ रहे हैं इसलिए बुखार, खांसी , गले में खराश, जुकाम या अन्य कोई समस्या होने पर तुरंत प्रशिक्षित डाक्टर को दिखाना चाहिए। उन्होंने बताया कि होम्योपैथी में बरसात के मौसम में होने वाली बीमारियों से बचाव एवँ उपचार की प्रभावी दवाइयाँ उपलब्ध हैं इसलिए कोई स्वास्थ्य संबंधी समस्या होने पर अपने होम्योपैथिक चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिये। उन्होंने बताया कि बरसात संबंधी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के बचाव एवँ उपचार के बारे में मोबाइल नंबर 6392090088 से मुफ्त परामर्श प्राप्त किया जा सकता है।