आकाश चोपड़ा : अच्छी स्थिति में होने के बावजूद मैच के चौथे दिन कीवी टीम के ऊपर काफी दवाब रहेगा

आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप(डब्ल्यूटीसी) के फाइनल मुकाबले में युवा तेज गेंदबाज काइल जैमीसन की धारदार गेंदबाजी के दम पर न्यूजीलैंड की टीम भारत के मुकाबले मजबूत नजर आ रही है। टीम ने पहले टीम इंडिया को 217 रनों पर ऑलआउट कर दिया और उसके बाद तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक दो विकेट के नुकसान पर 101 रन बना लिए। टीम के दो सबसे अनुभवी खिलाड़ी कप्तान केन विलियमसन और रॉस टेलर नाबाद हैं। इस मैच को लेकर भारत के पूर्व क्रिकेटर और इस मैच में कमेंट्री कर रहे आकाश चोपड़ा ने कहा है कि अच्छी स्थिति में होने के बावजूद मैच के चौथे दिन कीवी टीम के ऊपर भी काफी दवाब रहेगा। उनका इस बात का कारण भी बताया है।

तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद आकाश ने 'स्टार स्पोर्ट्स' से बात की और कहा कि, न्यूजीलैंड टीम को भी यह देखना होगा कि भारत एक समय कहां था। टीम का स्कोर एक समय 3 विकेट पर 146 था और उस समय दो सेट बल्लेबाज क्रीज पर मौजूद थे, लेकिन अगली सुबह जब टीम खेलती है तो कहानी एकदम बदल जाती है। बॉल एक बार फिर स्विंग करती है और गेंदें किनारा लेकर स्लिप के खिलाड़ी के पास जाती हैं। साथ ही भारत के पुछल्ले बल्लेबाज ज्यादा कुछ खास नहीं कर सके। यह सारी चीजें मैच के चौथे दिन न्यूजीलैंड टीम के साथ भी हो सकती हैं।'

उन्होंने आगे कहा कि, 'न्यूजीलैंड के प्वॉइंट से देखें तो वे जानते हैं कि वे मैच में अच्छी स्थिति में हैं। ध्यान रहे, जब आप टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला करते हैं तो आपको यह भी ध्यान रखना चाहिए कि आपको चौथी पारी भी खेलती है और विपक्षी टीम को ऑलआउट भी करना है। इसलिए इस मैच में अगर कीवी टीम 30-40 रन की बढ़त लेती है तो भारत जैसे देश के सामने यह अपर्याप्त साबित होगी। मैच में अच्छी स्थिति में पहुंचने के लिए और टॉस जीतने का फायदा उठाने के लिए आपको कम से कम 150 रनों की बढ़त लेनी ही होगी।'